सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book PDF Hindi

सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book Hindi PDF Download

सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book in Hindi PDF download link is available below in the article, download PDF of सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book in Hindi using the direct link given at the bottom of content.

21 People Like This
REPORT THIS PDF ⚐

सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book Hindi PDF

हैलो दोस्तों, आज हम आपके लिए लेकर आये हैं सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book PDF हिन्दी भाषा में। अगर आप सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book हिन्दी पीडीएफ़ डाउनलोड करना चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं। इस लेख में हम आपको देंगे सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book के बारे में सम्पूर्ण जानकारी और पीडीएफ़ का direct डाउनलोड लिंक।

हिन्दू धर्मानुसार प्रत्येक महीने की एकादशी तिथि को भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। इस दिन एकादशी व्रत किया जाता है। वैष्णव समाज और हिन्दू धर्म के लिए एकादशी व्रत महत्वपूर्ण और पुण्यकारी माना जाता है। साल में कुल 24 एकादशी पड़ती हैं।

एकादशी वाले दिन भगवान विष्णु की पूजा के लिए लोग पूरे दिन व्रत करते है और श्याम को एकादशी की कथा पढ़ते है। कहते हैं कि बिना कथा के व्रत पूर्ण नहीं माना जाता और न ही व्रत का पूर्ण फल मिलता है।

एकादशी व्रत विधि (Ekadashi Vrat Vidhi in Hindi)

नारदपुराण के अनुसार एकादशी का व्रत भगवान विष्णु को बेहद प्रिय होता है। जिस तरह चतुर्थी को गणेश जी, त्रयोदशी को शिवजी, पंचमी को लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है उसी प्रकार एकादशी तिथि को भगवान श्री हरि विष्णु जी की पूजा की जाती है। एकादशी व्रत के लिए दशमी के दिन सुबह स्नान करने के बाद भगवान विष्णु की आराधना करना चाहिए तथा रात को पूजा स्थल के समीप सोना चाहिए। अगले दिन उठाकर (एकादशी) प्रात: स्नान के बाद व्यक्ति को पुष्प, धूप आदि से भगवान विष्णु की पूजा करते हुए निम्न मंत्र का उच्चारण करना चाहिए:

एकादशी निराहारः स्थित्वाद्यधाहं परेङहन।

भोक्ष्यामि पुण्डरीकाक्ष शरणं में भवाच्युत।।

पूरे दिन व्रत रखने के बाद रात को भगवान विष्णु की श्रद्धाभाव से आराधना करनी चाहिए। इसके बाद द्वादशी के दिन सुबह उठकर स्नान कर भगवान विष्णु को भोग लगाकर पंडित को भोजन करने को बाद स्वयं अन्न ग्रहण करना चाहिए। साल में आने वाली कुछ विशेष एकादशी निम्न हैं:

सम्पूर्ण एकादशी सूची 2022 | Ekadashi Vrat List 2022

Ekadashi Date & Day
(एकादशी की तारीख)
Ekadashi Fast Name
(एकादशी व्रत का नाम)
Timings
(एकादशी तिथि का समय)
13-जनवरी, 2022
(बृहस्पतिवार)
पुत्रदा एकादशी
(शुक्ल पक्ष – पौष मास)
प्रारम्भ – 04:49 PM, Jan 12
समाप्त – 07:32 PM, Jan 13
28-जनवरी, 2022
(शुक्रवार)
षटतिला एकादशी
(कृष्ण पक्ष – माघ मास)
प्रारम्भ – 02:16 AM, Jan 28
समाप्त – 11:35 PM, Jan 28
12-फरवरी, 2022
(शनिवार)
जया एकादशी
(शुक्ल पक्ष – माघ मास)
प्रारम्भ – 01:52 PM, Feb 11
समाप्त – 04:27 PM, Feb 12
26-फरवरी, 2022
(शनिवार)
विजया एकादशी
(कृष्ण पक्ष – फाल्गुन मास)
प्रारम्भ – 10:39 AM, Feb 26
समाप्त – 08:12 AM, Feb 27
13-मार्च, 2022
(सोमवार)
आमलकी एकादशी
(शुक्ल पक्ष – फाल्गुन मास)
प्रारम्भ – 10:21 AM, Mar 13
समाप्त – 12:05 PM, Mar 14
28-मार्च, 2022
(सोमवार)
पापमोचिनी एकादशी
(कृष्ण पक्ष – चैत्र मास)
प्रारम्भ – 06:04 PM, Mar 27
समाप्त – 04:15 PM, Mar 28
12-अप्रैल, 2022
(मंगलवार)
कामदा एकादशी
(शुक्ल पक्ष – चैत्र मास)
प्रारम्भ – 04:30 AM, Apr 12
समाप्त – 05:02 AM, Apr 13
26-अप्रैल, 2022
(मंगलवार)
वरूथिनी एकादशी
(कृष्ण पक्ष – वैशाख मास)
प्रारम्भ – 01:37 AM, Apr 26
समाप्त – 12:47 AM, Apr 27
12-मई, 2022
(बृहस्पतिवार)
मोहिनी एकादशी
(शुक्ल पक्ष – वैशाख मास)
प्रारम्भ – 07:31 PM, May 11
समाप्त – 06:51 PM, May 12
26-मई, 2022
(बृहस्पतिवार)
अपरा एकादशी
(कृष्ण पक्ष – ज्येष्ठ मास)
प्रारम्भ – 10:32 AM, May 25
समाप्त – 10:54 AM, May 26
10-जून, 2022
(शुक्रवार)
निर्जला एकादशी
(शुक्ल पक्ष – ज्येष्ठ मास)
प्रारम्भ – 07:25 AM, Jun 10
समाप्त – 05:45 AM, Jun 11
24-जून, 2022
(शुक्रवार)
योगिनी एकादशी
(कृष्ण पक्ष – आषाढ़ मास)
प्रारम्भ – 09:41 PM, Jun 23
समाप्त – 11:12 PM, Jun 24
10-जुलाई, 2022
(रविवार)
देवशयनी एकादशी
(शुक्ल पक्ष – आषाढ़ मास)
प्रारम्भ – 04:39 PM, July 09
समाप्त – 02:13 PM, July 10
24-जुलाई, 2022
(रविवार)
कामिका एकादशी
(कृष्ण पक्ष – श्रावण मास)
प्रारम्भ – 11:27 AM, July 23
समाप्त – 01:45 PM, July 24
08-अगस्त, 2022
(सोमवार)
श्रावण पुत्रदा एकादशी
(शुक्ल पक्ष – श्रावण मास)
प्रारम्भ – 11:50 PM, Aug 07
समाप्त – 09:00 PM, Aug 08
23-अगस्त, 2022
(मंगलवार)
अजा एकादशी
(कृष्ण पक्ष – भाद्रपद मास)
प्रारम्भ – 03:35 AM, Aug 22
समाप्त – 06:06 AM, Aug 23
06-सितम्बर, 2022
(मंगलवार)
पद्मा (परिवर्तिनी) एकादशी
(शुक्ल पक्ष – भाद्रपद मास)
प्रारम्भ – 05:54 AM, Sep 06
समाप्त – 03:04 AM, Sep 07
21-सितम्बर, 2022
(बुधवार)
इन्दिरा एकादशी
(कृष्ण पक्ष – आश्विन मास)
प्रारम्भ – 09:26 PM, Sep 20
समाप्त – 11:34 PM, Sep 21
06-अक्टूबर, 2022
(बृहस्पतिवार)
पापांकुशा एकादशी
(शुक्ल पक्ष – आश्विन मास)
प्रारम्भ – 12:00 PM, Oct 05
समाप्त – 09:40 AM, Oct 06
21-अक्टूबर, 2022
(शुक्रवार)
रमा एकादशी
(कृष्ण पक्ष – कार्तिक मास)
प्रारम्भ – 04:04 PM, Oct 20
समाप्त – 05:22 PM, Oct 21
04-नवम्बर, 2022
(शुक्रवार)
देवुत्थान/देवउठनी एकादशी
(शुक्ल पक्ष – कार्तिक मास)
प्रारम्भ – 07:30 PM, Nov 03
समाप्त – 06:08 PM, Nov 04
20-नवम्बर, 2022
(रविवार)
उत्पन्ना एकादशी
(कृष्ण पक्ष – मार्गशीर्ष मास)
प्रारम्भ – 10:29 AM, Nov 19
समाप्त – 10:41 AM, Nov 20
03-दिसम्बर, 2022
(शनिवार)
मोक्षदा एकादशी
(शुक्ल पक्ष – मार्गशीर्ष मास)
प्रारम्भ – 05:39 AM, Dec 03
समाप्त – 05:34 AM, Dec 04
19-दिसम्बर, 2022
(सोमवार)
सफला एकादशी
(कृष्ण पक्ष – पौष मास)
प्रारम्भ – 03:32 AM, Dec 19
समाप्त – 02:32 AM, Dec 20

एकादशीव्रत के फायदे

  • इस एकादशी व्रत के करने के 26 फायदे हैं- व्यक्ति निरोगी रहता है, राक्षस, भूत-पिशाच आदि योनि से छुटकारा मिलता हैं।
  • पापों का नाश होता है, संकटों से मुक्ति मिलती है, सर्वकार्य सिद्ध होते हैं, सौभाग्य प्राप्त होता है, मोक्ष मिलता है, विवाह बाधा समाप्त होती है, धन और समृद्धि आती है, शांति मिलती है, मोह-माया और बंधनों से मुक्ति मिलती है, हर प्रकार के मनोरथ पूर्ण होते हैं,
  • खुशियां मिलती हैं, सिद्धि प्राप्त होती है, उपद्रव शांत होते हैं, दरिद्रता दूर होती है, खोया हुआ सबकुछ फिर से प्राप्त हो जाता है, पितरों को अधोगति से मुक्ति मिलती है, भाग्य जाग्रत होता है, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है, पुत्र प्राप्ति होती है, शत्रुओं का नाश होता है, सभी रोगों का नाश होता है, कीर्ति और प्रसिद्धि प्राप्त होती है, वाजपेय और अश्‍वमेध यज्ञ का फल मिलता है और हर कार्य में सफलता मिलती है।

For more details download the Ekadashi Vrat Katha Book PDF format using the link given below.

सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book PDF - 2nd Page
सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book PDF - PAGE 2
PDF's Related to सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book

सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book PDF Download Link

REPORT THISIf the purchase / download link of सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If सम्पूर्ण एकादशी व्रत कथा महत्व | Ekadashi Vrat Katha Book is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.