बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha) Hindi PDF

बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha) Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

बृहस्पति व्रत कथा Hindi

हिन्दू धर्म में हर दिन किसी न किसी भगवान की पूजा की जाती है, इसमें गुरुवार का व्रत बड़ा ही फलदायी माना जाता है।  बृहस्पति के दिन जगतपालक श्री हरि विष्णुजी की पूजा का विधान है। कई लोग बृहस्पतिदेव और केले के पेड़ की भी पूजा करते हैं। बृहस्पतिदेव को बुद्धि का कारक माना जाता है।  केले के पेड़ को हिन्दू धर्मानुसार बेहद पवित्र माना जाता है।

बृहस्पति व्रत का पालन करने से मनुष्य की कुंडली से गुरु सम्बंधित दोष दूर हो जाते हैं। यदि आप विवाह संबधी समस्याओं से ग्रसित हैं अथवा आपका विवाह होने में विभिन्न प्रकार की बाधएँ उत्पन्न हो रही हैं, तो आपको भी नियमित रूप से पुराण विधि – विधान के साथ इस चमत्कारी गुरुवार व्रत का पालन करना चाहिए।

बृहस्पति व्रत कथा PDF, आरती और पूजा विधि (Brihaspativar Vrat Katha, Aarti, & Puja Vidhi)

बृहस्पति व्रत कथा का महत्‍व

ऐसी मान्‍यता है कि व्रत करने और बृहस्पति व्रत कथा सुनने से सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।  इस व्रत से धन संपत्ति की प्राप्ति होती है।  जिन्हें संतान नहीं है, उन्हें संतान की प्राप्ति होती है।  परिवार में सुख-शांति बढ़ती है। जिन लोगों का विवाह नहीं हो रहा, उनका जल्दी ही विवाह हो जाता है।  ऐसे जातकों की आर्थिक स्थिति में सुधार होता है।  बुद्धि और शक्ति का वरदान प्राप्त होता है और दोष दूर होता है।

बृहस्पति व्रत कथा PDF (Brihaspativar Vrat Katha in Hindi)

एक समय की बात है कि भारतवर्ष में एक प्रतापी और दानी राजा राज्य करता था। वह नित्य गरीबों और ब्राह्मणों की सहायता करता था। यह बात उसकी रानी को अच्छी नहीं लगती थी, वह न ही गरीबों को दान देती, न ही भगवान का पूजन करती थी और राजा को भी दान देने से मना किया करती थी।

एक दिन राजा शिकार खेलने वन को गए हुए थे, तो रानी महल में अकेली थी। उसी समय बृहस्पतिदेव साधु वेष में राजा के महल में भिक्षा के लिए गए और भिक्षा माँगी रानी ने भिक्षा देने से इन्कार किया और कहा: हे साधु महाराज मैं तो दान पुण्य से तंग आ गई हूं। मेरा पति सारा धन लुटाते रहिते हैं। मेरी इच्छा है कि हमारा धन नष्ट हो जाए फिर न रहेगा बांस न बजेगी बांसुरी।

साधु ने कहा: देवी तुम तो बड़ी विचित्र हो। धन, सन्तान तो सभी चाहते हैं। पुत्र और लक्ष्मी तो पापी के घर भी होने चाहिए।

यदि तुम्हारे पास अधिक धन है तो भूखों को भोजन दो, प्यासों के लिए प्याऊ बनवाओ, मुसाफिरों के लिए धर्मशालाएं खुलवाओ। जो निर्धन अपनी कुंवारी कन्याओं का विवाह नहीं कर सकते उनका विवाह करा दो। ऐसे और कई काम हैं जिनके करने से तुम्हारा यश लोक-परलोक में फैलेगा। परन्तु रानी पर उपदेश का कोई प्रभाव न पड़ा। वह बोली: महाराज आप मुझे कुछ न समझाएं। मैं ऐसा धन नहीं चाहती जो हर जगह बाँटती फिरूं।

साधु ने उत्तर दिया यदि तुम्हारी ऐसी इच्छा है तो तथास्तु! तुम ऐसा करना कि बृहस्पतिवार को घर लीपकर पीली मिट्‌टी से अपना सिर धोकर स्नान करना, भट्‌टी चढ़ाकर कपड़े धोना, ऐसा करने से आपका सारा धन नष्ट हो जाएगा। इतना कहकर वह साधु महाराज वहाँ से आलोप हो गये।

साधु के अनुसार कही बातों को पूरा करते हुए रानी को केवल तीन बृहस्पतिवार ही बीते थे, कि उसकी समस्त धन-संपत्ति नष्ट हो गई। भोजन के लिए राजा का परिवार तरसने लगा।

तब एक दिन राजा ने रानी से बोला कि हे रानी, तुम यहीं रहो, मैं दूसरे देश को जाता हूं, क्योंकि यहाँ पर सभी लोग मुझे जानते हैं।

पूरी कथा पढ़ने के लिए डाउनलोड करे बृहस्पति व्रत कथा PDF नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके

बृहस्पति पूजा विधि (Brihaspati Puja Vidhi)

  • बृहस्पतिवार को सुबह-सुबह उठकर स्नान करें।
  • नहाने के बाद ही पीले रंग के वस्त्र पहन लें और पूजा के दौरान भी इन्ही वस्त्रों को पहन कर पूजा करें
  • भगवान सूर्य व मां तुलसी और शालिग्राम भगवान को जल चढ़ाएं।
  • मंदिर में भगवान विष्णु की विधिवत पूजन करें और पूजन के लिए पीली वस्तुओं का प्रयोग करें।
  • पीले फूल, चने की दाल, पीली मिठाई, पीले चावल, और हल्दी का प्रयोग करें।
  • इसके बाद केले के पेड़ के तने पर चने की दाल के साथ पूजा की जाती है।
  • केले के पेड़ में हल्दी युक्त जल चढ़ाएं केले के पेड़ की जड़ो में चने की दाल के साथ ही मुन्नके भी चढ़ाएं।
  • इसके बाद घी का दीपक जलाकर उस पेड़ की आरती करें और केले के पेड़ के पास ही बैठकर व्रत कथा का भी पाठ करें।

बृहस्पति देवा आरती (Brihaspati Aarti)

ॐ जय बृहस्पति देवा
ॐ जय बृहस्पति देवा, जय बृहस्पति देवा।
छिन-छिन भोग लगाऊं, कदली फल मेवा।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।
तुम पूर्ण परमात्मा, तुम अंतर्यामी।
जगतपिता जगदीश्वर, तुम सबके स्वामी।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।
चरणामृत निज निर्मल, सब पातक हर्ता।
सकल मनोरथ दायक, कृपा करो भर्ता।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।
तन, मन, धन अर्पण कर, जो जन शरण पड़े।
प्रभु प्रकट तब होकर, आकर द्वार खड़े।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।
दीनदयाल दयानिधि, भक्तन हितकारी।
पाप दोष सब हर्ता, भव बंधन हारी।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।
सकल मनोरथ दायक, सब संशय तारो।
विषय विकार मिटाओ, संतन सुखकारी।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।
जो कोई आरती तेरी प्रेम सहित गावे।
जेष्टानंद बंद सो-सो निश्चय पावे।।
ॐ जय बृहस्पति देवा।।

नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके PDF प्रारूप में बृहस्पति व्रत कथा, आरती और पूजा विधि को डाउनलोड करें।

Also Check – Guruvar Vrat Katha PDF

2nd Page of बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha) PDF
बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha)
PDF's Related to बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha)

बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha) PDF Free Download

3 more PDF files related to बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha)

Brihaspati Vrat Katha, Aarti and Pooja Vidhi PDF

Brihaspati Vrat Katha, Aarti and Pooja Vidhi PDF

Size: 0.51 | Pages: 21 | Source(s)/Credits: Multiple Sources | Language: Hindi

बृहस्पति व्रत की कथा, आरती और पूजा विधि PDF Download using the link given below.

Added on 22 Feb, 2022 by Kumar
बृहस्पति देव की कथा और आरती PDF Download

बृहस्पति देव की कथा और आरती PDF Download

Size: 1.09 | Pages: 25 | Source(s)/Credits: Multiple Sources | Language: Hindi

बृहस्पति देव की कथा और आरती PDF Download using the link given below.

Added on 11 Nov, 2021 by Pradeep
Brihaspati Vrat Katha Book in Hindi PDF

Brihaspati Vrat Katha Book in Hindi PDF

Size: 1.15 | Pages: 24 | Source(s)/Credits: krizna.in | Language: Hindi

Download the Brihaspati Vrat Katha Book in Hindi PDF using the link given.

Added on 22 Jul, 2021 by Pradeep

REPORT THISIf the purchase / download link of बृहस्पति व्रत कथा (Brihaspativar Vrat Katha) PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • Navratri Vrat Katha & Aarti – श्री दुर्गा नवरात्रि व्रत कथा Hindi

    प्रिय पाठकों इस लेख मे जरिए हम आपके लिए Navratri Vrat katha PDF प्रारूप में लेकर आए है जिसे आप नीचे दिए गए लिंक से प्राप्त कर सकते हैं । हर साल माँ दुर्गा को समर्पित पर्व नवरात्रि साल में दो बार आती है । इस बार नवरात्रि का पावन...

  • Pradosh Vrat 2022 List Hindi

    प्रदोष व्रत हर महीने की त्रयोदशी तिथि (Trayodashi Tithi) पर आता है। हर महीने दो बार प्रदोष व्रत आता है। एक कृष्ण पक्ष में और दूसरा शुक्ल पक्ष में प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव (Lord Shiva) और उनके पूरे परिवार का विधि-विधान से पूजन किया जाता है। इस दिन...

  • अपरा एकादशी | Apara Ekadashi Vrat Katha Hindi

    अपरा एकादशी (Apara Ekadashi) का हिन्‍दू धर्म में बड़ा महत्‍व है। हिन्‍दू पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार अपरा एकादशी के व्रत का पुण्‍य अपार होता है और व्रती के सारे पाप नष्‍ट हो जाते हैं। पद्म पुराण के अनुसार इस एकादशी (Ekadashi) का व्रत करने से मुनष्‍य भवसागर तर जाता है...

  • एकादशीव्रतलिस्ट2024

    हिन्दू धर्म के अनुसार एकादशी व्रत (Ekadashi Vrat 2024 List PDF) का बहुत माना गया है। इस दिन नारायण श्री विष्णु (Shri Vishnu) का पूजन किया जाता है। हिंदू पंचांग के अनुसार प्रतिमाह की ग्यारहवीं तिथि को एकादशी या ग्यारस कहते हैं। एकादशी साल में 24 बार आती हैं एक...

  • कालभैरव सहस्रनाम स्तोत्रम् | Kalabhairava Sahasranama Stotram Sanskrit

    कालभैरव भगवान शिव के अवतार हैं। उन्हें शिव मंदिरों का रक्षक भी माना जाता है। काल भैरव सहस्रनाम स्तोत्र एक अत्यंत दिव्य व प्रभशाली स्तोत्र है। इस स्तोत्र के नियमित विधिवत पाठ से श्री काल भैरव जी अति प्रसन्न होते हैं तथा समस्त प्रकार के संकटों एवं शत्रुओं से आपकी...

  • गणपति सहस्रनाम स्तोत्र – Ganapati Sahasranama Stotram Sanskrit

    भगवान गणेश ने मुझे इस गणपति सहस्रनाम स्तोत्र का अध्ययन करने के लिए प्रेरित किया, जो कि गणेश पुराणम में होता है। जब मैंने इस काम की समीक्षा, संपादन और संकलन (वर्ड प्रोसेसिंग) समाप्त किया तो गणेश की कृपा स्पष्ट थी। गणेश सहस्रनाम का महत्व इस तथ्य के कारण है...

  • गुरु प्रदोष व्रत | Guru Pradosh Vrat Katha Hindi

    हिंदू धर्म में सावन मास के प्रदोष व्रत का अत्यंत महत्व होता है। जहां श्रावण मास महादेव को बेहद प्रिय है वहीं हर माह की प्रत्येक त्रयोदशी तिथि भगवान शिव को समर्पित होती है। त्रयोदशी तिथि को ही प्रदोष व्रत रखा जाता है। प्रदोष व्रत रखकर भगवान शिव की विधि...

  • गुरुवार व्रत कथा | Guruvar Vrat Katha & Arti Hindi

    गुरुवार व्रत कथा, आरती और पूजा विधि | Guruwar Vrat Katha Arti & Puja Vidhi On Thursday, Lord Vishnu and Lord Guru Jupiter are worshiped. Many people observe fast on this day. It is believed that all wishes are fulfilled by observing this fast. Especially this fast has been said...

  • चैत्र नवरात्रि व्रत कथा 2022 | Chaitra Navratri Vrat Katha Hindi

    नवरात्रि का त्योहार चैत्र माह में पड़ने से उसको चैत्र नवरात्रि कहा जाता हैं।  नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा की जाती है। इस साल चैत्र नवरात्रि की शुरुआत 02 अप्रैल 2022, शनिवार से हो रही है, जो कि 11 अप्रैल तक रहेगी। मान्यता है कि नवरात्रि...

  • ठाकुर प्रसाद कैलेंडर 2022 | Thakur Prasad Panchang Calendar 2022 Hindi

    Thakur Prasad Calendar 2022 (ठाकुर प्रसाद कैलेंडर 2022) PDF is an Panchang calendar is made up of many elements including Nakshatra, Karana, Yoga, Festival, Vaar, Paksha, Yoga, etc. Thakur Prasad Panchang Calendar 2022 PDF can be download from the link given at the bottom of this page. Thakur Prasad Panchang...