पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha) Hindi PDF

पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha) Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

Purnima Vrat Katha Hindi

इस साल शरद पूर्णिमा 28 अक्टूबर 2023 को सुबह 04 बजकर 17 मिनट पर प्रारंभ होगी और 29 अक्टूबर को सुबह 01 बजकर 53 मिनट पर समाप्त होगी। में आध्यात्मिक दृष्टिकोण से इस दिन को बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन माता महालक्ष्मी की उपासना की जाती हैं। मान्यता है कि इस दिन देवी लक्ष्मी की आराधना करने से घर में धन-धान्य की प्राप्ति होती है। बताया जाता है कि इस दिन चांद की रोशनी में खीर रखकर खाने से आरोग्य की प्राप्ति होती है। माना जाता है कि इससे आकाश से अमृत की वर्षा होती है। कई लोग इस दिन को महत्वपूर्ण मानते हुए व्रत रखते हैं।

अगर आप अपने जीवन में बहुत सी मानसिक परेशानियों से जूझ रहे हैं, तो शरद पूर्णिमा का व्रत जरूर करना चाहिए। विद्द्वानो के अनुसार कोई भी व्रत बिना व्रत कथा के पूरा नहीं माना जाता है। इसलिए शरद पूर्णिंमा व्रत की सफलता के लिए शरद पूर्णिमा व्रत कथा को अवश्य पढ़ना चाहिए। इस कथा को पढ़ने के बाद ही आपका व्रत पूरा माना जाता है।

पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha in Hindi PDF)

द्वापर युग में एक समय की बात है कि यशोदा जी ने कृष्ण से कहा – हे कृष्ण! तुम सारे संसार के उत्पन्नकर्ता, पोषक तथा उसके संहारकर्ता हो, आज कोई ऐसा व्रत मुझसे कहो, जिसके करने से मृत्युलोक में स्त्रियों को विधवा होने का भय न रहे तथा यह व्रत सभी मनुष्यों की मनोकामनाएं पूर्ण करने वाला हो। श्रीकृष्ण कहने लगे – हे माता! तुमने अति सुन्दर प्रश्न किया है। मैं तुमसे ऐसे ही व्रत को सविस्तार कहता हूँ । सौभाग्य की प्राप्ति के लिए स्त्रियों को बत्तीस पूर्णमासियों का व्रत करना चाहिए। इस व्रत के करने से स्त्रियों को सौभाग्य सम्पत्ति मिलती है। यह व्रत अचल सौभाग्य देने वाला एवं भगवान् शिव के प्रति मनुष्य-मात्र की भक्ति को बढ़ाने वाला है। यशोदा जी कहने लगीं – हे कृष्ण! सर्वप्रथम इस व्रत को मृत्युलोक में किसने किया था, इसके विषय में विस्तारपूर्वक मुझसे कहो।

श्रीकृष्ण जी कहने लगे कि इस भूमण्डल पर एक अत्यन्त प्रसिद्ध राजा चन्द्रहास से पालित अनेक प्रकार के रत्नों से परिपूर्ण ‘कातिका’ नाम की एक नगरी थी। वहां पर धनेश्वर नाम का एक ब्राह्मण था और उसकी स्त्री अति सुशीला रूपवती थी। दोनों ही उस नगरी में बड़े प्रेम के साथ रहते थे। घर में धन-धान्य आदि की कमी नहीं थी। उनको एक बड़ा दुख था कि उनके कोई सन्तान नहीं थी, इस दुख से वह अत्यन्त दुखी रहते थे। एक समय एक बड़ा तपस्वी योगी उस नगरी में आया। वह योगी उस ब्राह्मण के घर को छोड़कर अन्य सब घरों से भिक्षा लाकर भोजन किया करता था। रूपवती से वह भिक्षा नहीं लिया करता था। उस योगी ने एक दिन रूपवती से भिक्षा न लेकर किसी अन्य घर से भिक्षा लेकर गंगा किनारे जाकर, भिक्षान्न को प्रेमपूर्वक खा रहा था कि धनेश्वर ने योगी का यह सब कार्य किसी प्रकार से देख लिया।

पूर्णमासी | शरद पूर्णिमा व्रत विधि (Purnima Vrat Vidhi)

  • पूजन करने वाला व्यक्ति प्रातःकाल स्नान आदि से निवृत्त होकर किसी पवित्र स्थान पर आटे से चैक पूर कर केले का मण्डप बनाकर शिव-पार्वती की प्रतिमा बनाकर स्थापित करे।
  • तत्पश्चात् नवीन वस्त्र धारण कर आसन पर पूर्वाभिमुख बैठकर देशकालादि के उच्चारण के साथ हाथ में जल लेकर संकल्प करें।
  • उसके बाद गणेश जी का आवाहन व पूजन करें। अनन्तर वरुणादि देवों का आवाहन करके कलश पूजन करें, चन्दन आदि समर्पित करें, कलश मुद्रा दिखाएं, घण्टा बजायें। गन्ध अक्षतादि द्वारा घण्टा एवं दीपक को नमस्कार करें।
  • इसके बाद ‘ओम अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोअपि वा। यः स्मरेत पुण्डरीकाक्षं स वाह्याभ्यन्तरः शुचिः’ इस मन्त्र द्वारा पूजन सामग्री एवं अपने ऊपर जल छिड़कें।
  • इन्द्र आदि अष्टलोकपालों का आवाहन एवं पूजन करें। निम्नलिखित मन्त्र से शिव जी को स्नान करायें
  • मन्दार मालाकुलिजालकायै, कपालमालाकिंतशेखराय। दिव्याम्बरायै च सरस्वती रेवापयोश्णीनर्मदाजलैः। स्नापितासि मया देवि तेन शान्ति पुरुष्व मे।
  • निम्नलिखित मन्त्र से पार्वती जी को स्नान करायें – नमो देव्यै महादेव्यै सततम नमः। नमः प्रकृत्यै भद्रायै नियताः प्रणता स्मताम्। इसके बाद पंचोपचार पूजन करें।
  • चन्दन, अक्षत, पुष्प, धूप, दीप दिखाएं। फिर नैवेद्य चढ़ाकर आचमन करायें। अनन्तर हाथों के लिए उबटन समर्पण करें। फिर सुपारी अर्पण करें, दक्षिणा भेंट करें और नमस्कार करें।
  • इसके बाद उत्तर की ओर निर्माल्य का विसर्जन करके महा अभिषेक करें। अनन्तर सुन्दर वस्त्र समर्पण करें, यज्ञोपवीत धारण करायें। चन्दन, अक्षत और सप्तधान्य समर्पित करें। फिर हल्दी, कुंकुम, मांगलिक सिंदूर आदि अर्पण करें।
  • ताड़पत्र (भोजपत्र), कण्ठ की माला आदि समर्पण करें। सुगन्धित पुष्प चढ़ायें तथा धूप दें। दीप दिखाकर नैवेद्य समर्पित करें। फिर हाथ मुख धुलाने के लिए जल छोड़ें। चन्दन अर्पित करें। नारियल तथा ऋतुफल चढ़ायें।
  • ताम्बूल सुपारी और दक्षिणा द्रव्य चढ़ायें। कपूर की आरती करें और पुष्पांजलि दें। सब प्रकार से पूजन करके कथा श्रवण करें।

चंद्रदेव की आरती (Chandra Dev Ki Aarti Lyrics)

ॐ जय सोम देवा, स्वामी जय सोम देवा।
दुःख हरता सुख करता, जय आनन्दकारी।
रजत सिंहासन राजत, ज्योति तेरी न्यारी।
दीन दयाल दयानिधि, भव बंधन हारी।
जो कोई आरती तेरी, प्रेम सहित गावे।
सकल मनोरथ दायक, निर्गुण सुखराशि।
योगीजन हृदय में, तेरा ध्यान धरें।
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव, संत करें सेवा।
वेद पुराण बखानत, भय पातक हारी।
प्रेमभाव से पूजें, सब जग के नारी।
शरणागत प्रतिपालक, भक्तन हितकारी।
धन सम्पत्ति और वैभव, सहजे सो पावे।
विश्व चराचर पालक, ईश्वर अविनाशी।
सब जग के नर नारी, पूजा पाठ करें।
ॐ जय सोम देवा, स्वामी जय सोम देवा।

शरद पूर्णिमा पूजन सामग्री 

दूध, दही, घी, शर्करा, गंगाजल, रोली, मौली, ताम्बूल, पूंगीफल, धूप, फूल (सफेद कनेर), यज्ञोपवीत, श्वेत वस्त्र, लाल वस्त्र, आक, बिल्व-पत्र, फूलमाला, धतूरा, बांस की टोकरी, आम के पत्ते, चावल, तिल, जौ, नारियल (पानी वाला), दीपक, ऋतुफल, अक्षत, नैवेद्य, कलष, पंचरंग, चन्दन, आटा, रेत, समिधा, कुश, आचार्य के लिए वस्त्र, शिव-पार्वती की स्वर्ण मूर्ति (अथवा पार्थिव प्रतिमा), दूब, आसन आदि।

पूरी कथा पढ़ने के लिए डाउनलोड पूर्णमासी व्रत कथा PDF नीचे दिए लिंक का उपयोग करके | You can download the Purnima Vrat Katha in PDF format using the link given below.

2nd Page of पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha) PDF
पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha)
PDF's Related to पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha)

पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha) PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of पूर्णिमा व्रत कथा (Purnima Vrat Katha) PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • Babulal Chaturvedi Calendar 2023

    Babulal Chaturvedi (पंडित बाबूलाल चतुर्वेदी कैलेंडर हिंदी) ji is a famous and well-known astrologer of India, who is also considered very much for his calendar and panchang. Another name Pandit Babulal Chaturvedi is also called Bhuvan Vijay Panchang, and the author of this almanac is Pt. Suryakant Chaturvedi and publisher...

  • Gayatri Samhita Hindi

    गायत्री संहिता देवी गायत्री को समर्पित एक अत्यधिक दिव्य स्तोत्र है। देवी गायत्री माता को वेदमाता गायत्री के रूप भी पूजा जाता है। गायत्री मन्त्र को हिन्दू धर्म में वहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। जनेऊ संस्कार में भी गायत्री मन्त्र का बहुत अधिक महत्व है। श्री गायत्री मन्त्र के प्रभाव...

  • Hanuman Jayanti Puja Vidhi Hindi

    हनुमान जयंती हर साल चैत्र माह की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाति है। इस बार हनुमन जयंती 6th अप्रैल 2023 वीरवार वाले दिन है। पौराणिक मान्‍यताओं के हनुमानजी को रुद्रावतार यानी कि भगवान शिव का अवतार माना जाता है और उनका जन्‍म चैत्र मास की पूर्णिमा को मंगलवार के दिन...

  • Hindu Calendar 2024 with Tithi in Hindi

    अगर आप नए साल 2024 का हिन्दू कैलंडर को खोज रहे है तो आप सही जगह पर आए है। आप यह से  Hindu Calendar 2024 with Tithi in Hindi PDF में प्राप्त करके आने वाले साल के त्योहारों के बारे सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।  इस हिन्दू पंचांग कैलेंडर...

  • Hindu Panchang Calendar 2023 Hindi

    हिन्दू कैलेंडर 2023 आगामी तीज-त्योहारों और हर साल आने वाले व्रतों के बारे में जानकारी प्रदान करता है। इन सभी में हिंदू धर्म के अलावा मुस्लिम, ईसाई, सिख और कई अन्य समुदायों के त्योहार शामिल हैं। हिंदू कैलेंडर 2023 (हिंदू पंचांग कैलेंडर 2023) बहुत प्रसिद्ध पंचांग है जिसका उपयोग भारत...

  • KaldarshakCalendar2024

    Kaldarshak Calendar 2024 PDF एक ब्रांडेड पंचांग है। बहुत से लोग, ज्योतिषी और प्रकाशक अपने स्थानीय और बिना ब्रांड वाले पंचांग का उपयोग करके इसे प्रकाशित कर रहे हैं। किसी लोकप्रिय नाम के आगे या तो कलदार लगाने या बाद में लगाने के साथ सैकड़ों पंचांग प्रकाशित हुए हैं। कालदार...

  • Kalnirnay December 2023 Calendar Marathi

    Kalnirnay December 2023 Marathi Calendar gives you daily panchang, auspicious wedding muhurat, sankashti Chaturthi moonrise time, daily sunrise–moon rise time, and monthly astrological predictions for all zodiac signs. Kalnirnay Calendar gives you simplified information about Panchang, auspicious days, festivals, holidays, sunrise, and sunset. It also gives information for auspicious dates,...

  • KartikMassKathaBook(कार्तिकमासव्रतकथा)

    कार्तिक मास साल 2023 में 29 अक्टूबर 2023 से शुरू होकर 27 नंवबर तक चलेगा। हिन्दू धर्म में कार्तिक मास का बहुत महत्व है और सर्वश्रेष्ठ भी माना गया है। आप इस Kartik Mass Katha Book PDF में कार्तिक मास की पूजा विधि, कथा और इस माह में क्या करना...

  • Kishor Jantri Panchang 2023 Hindi

    Kishor Jantri Panchang 2023 PDF इस पंचांग में आपको व्रत, उत्सव (त्योहारों), विवाह मुहूर्त, सूर्योदय, सूर्यास्तम, तेजी मांडी विचार, चंद्र स्तिथि, मासिक कुंडली, मासिक अवकाश, भद्रा स्तिथि, पंचक विचार, मूल विचार, गृह विचार सब कुछ पढ़ने को मिलेगा। किशोर जंत्री पंचांग में हिंदू धर्म के अलावा मुस्लिम, ईसाई, सिख और...

  • KishoreJantriPanchang2024

    Kishore Jantri Panchang 2024 PDF is an ancient Hindu calendar that serves as a guide to people of the Hindu faith in India and throughout the world. As a form of divination, it helps adherents determine auspicious times for certain activities and to make spiritual decisions. The Hindu Jantri Panchang...