नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram PDF Sanskrit

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram Sanskrit PDF Download

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram in Sanskrit PDF download link is available below in the article, download PDF of नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram in Sanskrit using the direct link given at the bottom of content.

0 People Like This
REPORT THIS PDF ⚐

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram Sanskrit PDF

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram PDF Download in Sanskrit for free using the direct download link given at the bottom of this article.

Hello, Friends today we are sharing with you Navagraha Peeda Hara Stotram PDF to help you. If you are searching Navagraha Peeda Hara Stotram in Sanskrit PDF then don’t worry you have arrived at the right website and you can directly download from the link given at the bottom of this page.

हिन्दू वैदिक ज्योतिष के अनुसार प्रत्येक जातक की कुंडली में नवग्रह मंडल का बहुत अधिक महत्व होता है। ऐसा माना जाता है कि प्रत्येक जातक को यह ग्रह प्रभावित करते हैं। नव ग्रह नौ भिन्न – भिन्न प्रकार की ऊर्जाओं के माध्यम से जातकों को नियंत्रित व उनके जीवन को प्रभावित करते हैं जिसके कारण व्यक्ति अपने जीवन में भिन्न – भिन्न क्षेत्रों में सफलता अर्जित करता है। यदि आप भी भगवान् श्री गणेश जी की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो नियमित रूप से भालचंद्र नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र का पाठ अवश्य करें।

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Parihara Stotram Lyrics in Sanskrit

नवग्रहपीडाहरस्तोत्रम्

ग्रहाणामादिरादित्यो लोकरक्षणकारकः ।

विषमस्थानसंभूतां पीडां हरतु मे रविः ॥ १॥

रोहिणीशः सुधामूर्तिः सुधागात्रः सुधाशनः ।

विषमस्थानसंभूतां पीडां हरतु मे विधुः ॥ २॥

भूमिपुत्रो महातेजा जगतां भयकृत् सदा ।

वृष्टिकृद्वृष्टिहर्ता च पीडां हरतु मे कुजः ॥ ३॥

उत्पातरूपो जगतां चन्द्रपुत्रो महाद्युतिः ।

सूर्यप्रियकरो विद्वान् पीडां हरतु मे बुधः ॥ ४॥

देवमन्त्री विशालाक्षः सदा लोकहिते रतः ।

अनेकशिष्यसम्पूर्णः पीडां हरतु मे गुरुः ॥ ५॥

दैत्यमन्त्री गुरुस्तेषां प्राणदश्च महामतिः ।

प्रभुस्ताराग्रहाणां च पीडां हरतु मे भृगुः ॥ ६॥

सूर्यपुत्रो दीर्घदेहो विशालाक्षः शिवप्रियः ।

मन्दचारः प्रसन्नात्मा पीडां हरतु मे शनिः ॥ ७॥

महाशिरा महावक्त्रो दीर्घदंष्ट्रो महाबलः ।

अतनुश्चोर्ध्वकेशश्च पीडां हरतु मे शिखी ॥ ८॥

अनेकरूपवर्णैश्च शतशोऽथ सहस्रशः ।

उत्पातरूपो जगतां पीडां हरतु मे तमः ॥ ९॥

॥ इति ब्रह्माण्डपुराणोक्तं नवग्रहपीडाहरस्तोत्रं सम्पूर्णम् ॥

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र के लाभ | Navagraha Peeda Hara Stotram Benefits

  • नवग्रह बीज मंत्रों का जाप व्यक्ति के समग्र कल्याण को बढ़ावा देने में अत्यधिक लाभकारी होता है। इन सभी मंत्रों का नियमित रूप से जाप करने से आप अपनी कुंडली में नौ ग्रहों के अशुभ प्रभावों को कम कर सकते हैं।
  • अपनी कुंडली के अनुसार निर्धारित मंत्र का जाप करें और आपको 40 दिनों की अवधि में एक स्पष्ट अंतर दिखाई देगा।
  • व्यक्ति की कुंडली के अनुसार चुना गया नवग्रह मंत्र उक्त ग्रह के सकारात्मक प्रभाव को मजबूत करने और नकारात्मक प्रभावों को कम करने में मदद करता है।
  • नवग्रह दोषों को दूर करने और जीवन में शांति और खुशी प्राप्त करने में मदद करता है।
  • दुर्भाग्य और दुर्भाग्य को दूर रखता है।
  • बीमारियों और बीमारियों को रोकता है।
  • व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन की गुणवत्ता में महत्वपूर्ण रूप से सुधार करता है।
  • सर्वोत्तम परिणामों के लिए, राशि से बनी माला का उपयोग करें। उस विशेष ग्रह का पत्थर। उदाहरण के लिए चंद्र मंत्र के लिए मोती की माला और मंगल मंत्र के लिए मूंगे की माला का प्रयोग करें।

You can download Navagraha Peeda Hara Stotram PDF by using the link given below.

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram PDF - 2nd Page
नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram PDF - PAGE 2
PDF's Related to नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram

नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram PDF Download Link

REPORT THISIf the purchase / download link of नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If नवग्रह पीड़ाहर स्तोत्र | Navagraha Peeda Hara Stotram is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published.