श्राद्ध विधि | Shraddh Vidhi Book Hindi PDF

श्राद्ध विधि | Shraddh Vidhi Book Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

श्राद्ध विधि | Shraddh Vidhi Book Hindi

श्राद्ध दिवस को बुद्धिमान पुरुष श्रोत्रिय आदि से विहित ब्राह्मणों को पितृ-श्राद्ध तथा वैश्व-देव-श्राद्ध के लिए निमंत्रित करें। पितृ-श्राद्ध के लिए सामर्थ्यानुसार अयुग्म तथा वैश्व-देव-श्राद्ध के लिए युग्म ब्राह्मणों को निमंत्रित करना चाहिए।

धर्म ग्रंथों के अनुसार पितरों की भक्ति से मनुष्य को पुष्टि, आयु, वीर्य और धन की प्राप्ति होती है। ब्रह्माजी, पुलस्त्य, वशिष्ठ, पुलह, अंगिरा, क्रतु और महर्षि कश्यप-ये सात ऋषि महान योगेश्वर और पितर माने गए हैं।

श्राद्ध विधि हिन्दी में  | Shraddh Vidhi Hindi

श्राद्ध कर्म- एक संक्षिप्त विधि क्रमांक विधि

  • सर्वप्रथम ब्राह्मण का पैर धोकर सत्कार करें।
  • हाथ धोकर उन्हें आचमन कराने के बाद साफ़ आसन प्रदान करें।
  • देवपक्ष के ब्राह्मणों को पूर्वाभिमुख तथा पितृ-पक्ष व मातामह-पक्ष के ब्राह्मणों को उत्तराभिमुख बिठाकर भोजन कराएं।
  • श्राद्ध विधि का ज्ञाता पुरुष यव-मिश्रित जल से देवताओं को अर्ध्य दान कर विधि-पूर्वक धूप, दीप, गंध, माला निवेदित करें।
  • इसके बाद पितृ-पक्ष के लिए अपसव्य भाव से यज्ञोपवीत को दाएँ कन्धे पर रखकर निवेदन करें, फिर ब्राह्मणों की अनुमति से दो भागों में बंटे हुए कुशाओं का दान करके मंत्रोच्चारण-पूर्वक पितृ-गण का आह्वान करें तथा अपसव्य भाव से तिलोसक से अर्ध्यादि दें।
  • यदि कोई अनिमंत्रित तपस्वी ब्राह्मण या कोई भूखा पथिक अतिथि रूप में आ जाए तो निमंत्रित ब्राह्मणों की आज्ञा से उसे यथेच्छा भोजन निवेदित करें।
  • निमंत्रित ब्राह्मणों की आज्ञा से शाक तथा लवणहीन अन्न से श्राद्ध-कर्ता यजमान निम्न मंत्रों से अग्नि में तीन बार आहुति दें-

प्रथम आहुतिः- “अग्नये काव्यवाहनाय स्वाहा”
द्वितीय आहुतिः- “सोमाय पितृमते स्वाहा”

  • आहुतियों से शेष अन्न को ब्राह्मणों के पात्रों में परोस दें।
  • इसके बाद रुचि के अनुसार अन्न परोसें और अति विनम्रता से कहें कि ‘आप भोजम ग्रहण कीजिए”।
  • ब्राह्मणों को भी तद्चित और मौन होकर प्रसन्न मुख से सुखपूर्वक भोजन करना चाहिए तथा यजमान को क्रोध और उतावलेपन को छोड़कर भक्ति-पूर्वक परोसते रहना चाहिए।
  •  फिर ऋग्वेदोक्त ‘रक्षोघ्न मंत्र’ ॐ अपहता असुरा रक्षांसि वेदिषद इत्यादि ऋचा का पाठ कर श्राद्ध-भूमि पर तिल छिड़कें तथा अपने पितृ-रुप से उन ब्राह्मणों का ही चिंतन करे तथा निवेदन करें कि ‘इन ब्राह्मणों के शरीर में स्थित मेरे पिता, पितामह और प्रपितामह आदि आज तृप्ति लाभ करें

आप नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके श्राद्ध विधि पीडीएफ़ | Shraddh Vidhi Hindi PDF मे डाउनलोड कर सकते हैं।

2nd Page of श्राद्ध विधि | Shraddh Vidhi Book PDF
श्राद्ध विधि | Shraddh Vidhi Book

श्राद्ध विधि | Shraddh Vidhi Book PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of श्राद्ध विधि | Shraddh Vidhi Book PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • Bihar Lockdown Guidelines 2021 Hindi

    बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 31 तारीख को अत्यधिक COVID-19 संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिए राज्य में एक सप्ताह अर्थात 8 जून तक लॉकडाउन का विस्तार करने का निर्णय लिया है। इसके विस्तृत मार्गनिर्देशिका एवं अन्य गतिविधियों के संबंध में आज ही आपदा प्रबंधन समूह को कार्रवाई...

  • Garud Puran Marathi

    गरुड पुराणाला पुराण साहित्यात महत्त्वाचे स्थान आहे, सनातन धर्म म्हणजे मनुष्याच्या मृत्यूनंतर गरुड पुराणाचे पठण केल्याने त्याला वैकुंठ लोकाची प्राप्ती होते. या गरूण पुराणात एकूण २८९ अध्याय आणि १८ हजार श्लोक आहेत.गरुड पुराणात असे म्हटले आहे की जिथे जीवन आहे तिथे मृत्यू देखील निश्चित आहे, जो जन्म घेतो त्याला वेळ...

  • Pitru Stotra (पितृ स्तोत्र) Hindi

    पितृ पक्ष के दिन शुरू हो चुके है जिन लोगों की कुंडली में पितृ दोष है उन्हें ये मंत्र जाप ओर स्तोत्र पाठ जरुर करना चाहिए, ताकि उसके ओर उसके परिवार पर पितरों की कृपा हमेशा बनी रहे। इस दौरान लोग अपने पितरों को स्‍मरण करेंगे। विधि एवं विधान से...

  • Pitru Tarpan Vidhi (पितृ तर्पण विधि) Hindi

    हर साल पितृ पक्ष भाद्रपद मास की पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन मास की अमावस्‍या तक चलते हैं। पितृ पक्ष को सर्व पितृ अमावस्‍या भी कहा जाता है। पितरों की आत्मा की शांति के लिए पितृ पक्ष में श्राद्ध कर्म किए जाते हैं। इस बार पितृ पक्ष या महालय 29...

  • Somvati Amavasya Katha Telugu

    सोमवती अमावस्या 11 अप्रैल 2021 को सुबह 06 बजकर 3 मिनट पर शुरू होगी और 12 अप्रैल की सुबह 08 बजे तक रहेगी। रेवती नक्षत्र और मातंग योग में होने वाले स्नान पूजन से समस्त कष्टों का नाश होता है। गंगा स्नान करने के बाद दान और भगवान विष्णु का...

  • इंदिरा एकादशी व्रत कथा (Indira Ekadashi Vrat Katha) Hindi

    आश्विन मास के कृष्ण पक्ष कि एकादशी को इंदिरा एकादशी कहा जाता है। एकादशी पर विष्णु जी के अवतार भगवान शालिग्राम की पूजा की जाती है। मान्यता है कि इस दिन व्रत करने से सात पीढ़ियों तक के पितरों को तो मोक्ष की प्राप्ति होती ही है। एकादशी व्रत वाले...

  • ऋषि पंचमी व्रत कथा (Rishi Panchami Vrat Katha) Hindi

    भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी ऋषि पंचमी के रुप में मनाई जाती है। इस व्रष ऋषि पंचमी व्रत 20 सितंबर 2023 को गुरुवार के दिन आया है। ऋषि पंचमी का व्रत सभी के लिए फल दायक होता है। हिंदू धर्म में ऋषि पंचमी का विशेष महत्व माना गया...

  • कृष्ण जन्माष्टमी व्रत कथा (Janmashtami Vrat Katha) Hindi

    हिंदू पंचांग के अनुसार जन्माष्टमी भाद्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाई जाती है। ये तिथि इस बार 6 सिंतबर को पड़ रही है जिस कारण इसी दिन कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाएगी। इस साल जन्माष्टमी के त्योहार पर हर्षण योग बन रहा है। हिंदू धर्म के लोगों...

  • गोपाल सहस्त्रनाम – Gopal Sahastranaam Stotram Hindi

    गोपाल सहस्त्रनाम पाठ  PDF करने से श्री कृष्ण भगवन आपके जीवन को खुशियों से भर देते हैं। इसका पाठ आपको सुबह-सुबह नहाने के बाद श्री कृष्णा की मूर्ति के सामने करना चाहिए। धर्म ग्रंथों में भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न करने के लिए अनेक मंत्र, स्तुति और स्त्रोतों की रचना की...

  • गोपालसहस्त्रनामसंस्कृतमें

    हिन्दू धरम शास्त्रों के अनुसार सुबह जल्दी स्नान करके भगवान् श्री कृष्णा की तस्वीर या मूर्ति के सामने श्री गोपाल सहस्त्रनाम स्तोत्रम् का पाठ करे। सर्व प्रथम भगवान् श्री कृष्णा का आवाहन करें और भगवान् श्री कृष्णा को सर्व प्रथम आसन अर्पित करें। तत्पश्चात पैर धोने के लिए जल समर्पित...