तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra PDF Sanskrit

तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra Sanskrit PDF Download

तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra in Sanskrit PDF download link is available below in the article, download PDF of तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra in Sanskrit using the direct link given at the bottom of content.

1 People Like This
REPORT THIS PDF ⚐

तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra Sanskrit PDF

तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra PDF Download in Sanskrit for free using the direct download link given at the bottom of this article.

प्रिय पाठक, यदि आप Swami Samarth Tarak Mantra PDF / तारक मंत्र PDF खोज रहे हैं  तो चिंता न करें कि आप सही पृष्ठ पर हैं। स्वामी समर्थ को अक्कलकोट के स्वामी के रूप में भी जाना जाता है। अक्कलकोट भारत के महाराष्ट्र राज्य के सोलापुर ज़िले का एक शहर है। अक्कलकोट सोलापुर से 40 किमी दक्षिण-पूर्व में और महाराष्ट्र और कर्नाटक राज्यों के बीच की सीमा के बहुत करीब पाया जाता है।

स्वामी समर्थ ने सभी भारतीय उपमहाद्वीपों की यात्रा की और अंततः वर्तमान महाराष्ट्र के एक शहर अक्कलकोट में अपना निवास स्थापित किया। माना जाता है कि वह मूल रूप से 1856 में सितंबर या अक्टूबर के दौरान बुधवार को अक्कलकोट पहुंचे थे। वह लगभग 22 वर्षों तक अक्कलकोट में रहे। उन्हें नरसिंह सरस्वती का पुनर्जन्म भी माना जाता है, जो दत्तात्रेय संप्रदाय के एक और पहले आध्यात्मिक कुशल थे।

श्री स्वामी समर्थ तारक मंत्र PDF | Shree Swami Samarth Tarak Mantra Lyrics PDF

निशंक होई रे मना,निर्भय होई रे मना।
प्रचंड स्वामीबळ पाठीशी, नित्य आहे रे मना।
अतर्क्य अवधूत हे स्मर्तुगामी,
अशक्य ही शक्य करतील स्वामी।।१।।

जिथे स्वामीचरण तिथे न्युन्य काय,
स्वये भक्त प्रारब्ध घडवी ही माय।
आज्ञेवीना काळ ही ना नेई त्याला,
परलोकी ही ना भीती तयाला
अशक्य ही शक्य करतील स्वामी।।२।।

उगाची भितोसी भय हे पळु दे,
वसे अंतरी ही स्वामीशक्ति कळु दे।
जगी जन्म मृत्यु असे खेळ ज्यांचा,
नको घाबरू तू असे बाळ त्यांचा
अशक्य ही शक्य करतील स्वामी।।३।।

खरा होई जागा श्रद्धेसहित,
कसा होसी त्याविण तू स्वामिभक्त।
आठव! कितीदा दिली त्यांनीच साथ,
नको डगमगु स्वामी देतील हात
अशक्य ही शक्य करतील स्वामी।।४।।

विभूति नमननाम ध्यानार्दी तीर्थ,
स्वामीच या पंचामृतात।
हे तीर्थ घेइ आठवी रे प्रचिती,
ना सोडती तया, जया स्वामी घेती हाती ।।५।।

अशक्य ही शक्य करतील स्वामी
अशक्य ही शक्य करतील स्वामी

।। श्री स्वामी समर्थ ।

You can download the free Tarak Mantra PDF BY clicking on this link. 

तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra PDF Download Link

REPORT THISIf the purchase / download link of तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If तारक मंत्र | Swami Samarth Tarak Mantra is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.