सोमवती अमावस्या कथा (Somvati Amavasya Katha) Hindi PDF

सोमवती अमावस्या कथा (Somvati Amavasya Katha) Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

Somvati Amavasya Vrat Katha (सोमवती अमावस्या व्रत कथा) Hindi

सोमवती अमावस्या 17 जुलाई 2023 को सुबह 06 बजकर 3 मिनट पर शुरू होगी और 18 जुलाई की सुबह 08 बजे तक रहेगी। रेवती नक्षत्र और मातंग योग में होने वाले स्नान पूजन से समस्त कष्टों का नाश होता है। गंगा स्नान करने के बाद दान और भगवान विष्णु का पूजन करने से मनोवांछित फल की प्राप्ति होगी।

इस दिन अखंड सौभाग्य और लक्ष्मी प्राप्ति के लिए पीपल के वृक्ष पर दीप जलाकर 108 परिक्रमा करना शुभ माना जाता है।  इस दिन को गंगा स्नान का भी बड़ा महत्व है। जो मनुष्य गंगा स्नान को नहीं जा सकते, वे अपने घर में हीं पानी में गंगा जल मिला कर तीर्थों का आह्वान करते हुए स्नान करें। इस दिन स्नान दान का विशेष महत्व है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन मौन रहकर स्नान करने से सहस्त्र गौ दान के समान पुण्य की प्राप्ति होती है। कुरुक्षेत्र के ब्रह्मा सरोवर में स्नान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है।

सोमवती अमावस्या पूजा (व्रत) विधि

  • सुबह जल्दी उठ के स्नान कर लें और स्वच्छ कपड़े धारण कर लें।
  • इसके बाद सबसे पहले सूर्य देव को अर्घ्य दें।
  • पितरों के निमित्त तर्पण करें।
  • हरियाली अमावस्या के दिन नदी या तालाब में जाकर मछली को आटे की गोलियां खिलाने की भी परंपरा है।
  • इस तिथि को तर्पण, स्नान, दान आदि के लिये बहुत ही पुण्य फलदायी माना जाता है।
  • पीपल के वृक्ष की पूजा करें।
  • गरीब, जरूरतमन्द व ब्राह्मणों को दान-दक्षिणा करें।

सोमवती अमावस्या पर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा का विधान

सोमवती अमावस्या के दिन भगवान शिव, पार्वती, गणेशजी और कार्तिकेय की पूजा की जाती है। इस दिन जलाभिषेक करना भी विशेष रूप से फलदायी बताया गया है। कई लोग इस दिन व्रत भी रखते हैं। अमावस्या को महिलाएं तुलसी या पीपल के पेड़ की 108 परिक्रमा भी करती हैं। कई जगह अमावस्या पर पितर देवताओं की पूजा और श्राद्ध करने की भी परंपरा है। सावन हरियाली और उत्साह का महीना माना जाता है। इसलिए इस महीने की अमावस्या पर प्रकृति के करीब आने के लिए पौधरोपण किया जाता है। मान्यता है कि इस दिन पौधारोपण से ग्रह दोष शांत होते हैं। इस तिथि पर गंगा स्नान और दान का महत्व बहुत है।

सोमवती अमावस्या व्रत कथा PDF

एक गरीब ब्राह्मण परिवार था। उस परिवार में पति-पत्नी के अलावा एक पुत्री भी थी। वह पुत्री धीरे-धीरे बडी होने लगी। उस पुत्री में समय और बढ़ती उम्र के साथ सभी स्त्रियोचित गुणों का विकास हो रहा था। वह लडकी सुुंदर, सुंस्कारवान एवुं गुणवान थी। किन्तु गरीब होने के कारण उसका विवाह नहीं हो पा रहा था।

एक दिन उस ब्राह्मण के घर एक साधु महाराज पधारें। वो उस कन्या के सेवा भाव से काफी प्रसन्न हुए। कन्या को लम्बी आयु का आशीवाद देते हुए साधु ने कहा की इस कन्या के हथेली में विवाह योग्य रेखा नहीं है। तब ब्राह्मण दम्पति ने साधु से उपाय पूछा, की कन्या ऐसा क्या करें क उसके हाथ में विवाह योग बन जाए। साधु ने कुछ देर विचार करने के बाद अपनी अंतदृस्टि से ध्यान करके बताया की कुछ दुरी पर एक गांव में सोना नाम की धोबिन जाति की एक महिला अपने बेटे और बहू के साथ रहती है, जो बहुत ही आचार – विचार और सुंस्कार सुंपन्न तथा पति परायण है।

यदि यह कन्या उसकी सेवा करे और वह महिला इसकी शादी में अपने मांग का सिंदूर लगा दें, उसके बाद इस कन्या का विवाह हो तो इस कन्या का वैधव्य योग तमट सकता है। साधु ने यह भी बताया की वह महिला कहीं आती-जाती नहीं है। यह बात सुनकर ब्राह्मणी ने अपनी बेटी से धोबिन की सेवा करने की बात कही। अगले दिन कन्या प्रात: काल ही उठ कर सोना धोबिन के घर जाकर, साफ-सफाई और अन्य सारे काम करके अपने घर वापस आ जाती।

एक दिन सोना धोबिन अपनी बहू से पूछती है की ,तुम तो सुबह ही उठकर सारे काम कर लेती हो और पता भी नहीं हिलता बहू ने कहा- मां जी, मैंने तो सोचा की आप ही सुबह उठकर सारे काम खुद ही खत्म कर लेती हैं। मैं तो देर से उठती हूुं। इस पर दोनों सास-बहू नीगरानी करने लगी की कौन है जो सुबह ही घर का सारा काम करके चला जाता है। तब कन्या ने साधु द्बारा कही गई सारी बात बताई। सोना धोबिन पति परायण थी, उसमें तेज था। वह तैयार हो गई।

To read complete Story download the PDf.

आप नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके Somvati Amavasya Katha को PDF मे डाउनलोड कर सकते हैं। 

2nd Page of सोमवती अमावस्या कथा (Somvati Amavasya Katha) PDF
सोमवती अमावस्या कथा (Somvati Amavasya Katha)
PDF's Related to सोमवती अमावस्या कथा (Somvati Amavasya Katha)

सोमवती अमावस्या कथा (Somvati Amavasya Katha) PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of सोमवती अमावस्या कथा (Somvati Amavasya Katha) PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • Somvati Amavasya Katha Telugu

    सोमवती अमावस्या 11 अप्रैल 2021 को सुबह 06 बजकर 3 मिनट पर शुरू होगी और 12 अप्रैल की सुबह 08 बजे तक रहेगी। रेवती नक्षत्र और मातंग योग में होने वाले स्नान पूजन से समस्त कष्टों का नाश होता है। गंगा स्नान करने के बाद दान और भगवान विष्णु का...

  • Somvati Amavasya Katha Hindi

    महालया अमावस्या वह दिन है जो पितृ पक्ष काल की समाप्ति और देव पक्ष की शुरुआत का प्रतीक है। हालांकि, इस साल, देवी दुर्गा को समर्पित शारदीय नवरात्रि को लगभग एक महीने तक देरी होगी (हिंदू कैलेंडर में लीप माह)। आमतौर पर, देवी पक्ष महालया अमावस्या के साथ शुरू होता...

  • ठाकुर प्रसाद कैलेंडर 2022 | Thakur Prasad Panchang Calendar 2022 Hindi

    Thakur Prasad Calendar 2022 (ठाकुर प्रसाद कैलेंडर 2022) PDF is an Panchang calendar is made up of many elements including Nakshatra, Karana, Yoga, Festival, Vaar, Paksha, Yoga, etc. Thakur Prasad Panchang Calendar 2022 PDF can be download from the link given at the bottom of this page. Thakur Prasad Panchang...