जगजननी जय जय आरती PDF

जगजननी जय जय आरती PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

जगजननी जय जय आरती

माँ दुर्गा के अनेक रूप है उन रूपों में एक रूप माँ जगजानी भी है। आप यहाँ से जगजननी जय जय आरती PDF में प्राप्त कर सकते है।  जगजननी जय जय आरती को नवरतों में पढ़ सकते हैं।

जगजननी जय जय आरती लिरिक्स

जगजननी जय! जय! माँ! जगजननी जय! जय!
भयहारिणी, भवतारिणी, भवभामिनि जय जय। जगजननी…
तू ही सत्-चित्-सुखमय, शुद्ध ब्रह्मरूपा।
सत्य सनातन, सुन्दर पर-शिव सुर-भूपा॥ जगजननी…

आदि अनादि, अनामय, अविचल, अविनाशी।
अमल, अनन्त, अगोचर, अज आनन्दराशी॥ जगजननी…

अविकारी, अघहारी, अकल कलाधारी।
कर्ता विधि, भर्ता हरि, हर संहारकारी॥ जगजननी…

तू विधिवधू, रमा, तू उमा महामाया।
मूल प्रकृति, विद्या तू, तू जननी जाया॥ जगजननी…

राम, कृष्ण तू, सीता, ब्रजरानी राधा।
तू वांछाकल्पद्रुम, हारिणि सब बाधा॥ जगजननी…

दश विद्या, नव दुर्गा नाना शस्त्रकरा।
अष्टमातृका, योगिनि, नव-नव रूप धरा॥ जगजननी…

तू परधामनिवासिनि, महाविलासिनि तू।
तू ही श्मशानविहारिणि, ताण्डवलासिनि तू॥ जगजननी..

सुर-मुनि मोहिनि सौम्या, तू शोभाधारा।
विवसन विकट सरुपा, प्रलयमयी, धारा॥ जगजननी…

तू ही स्नेहसुधामयी, तू अति गरलमना।
रत्नविभूषित तू ही, तू ही अस्थि तना॥ जगजननी…

मूलाधार निवासिनि, इह-पर सिद्धिप्रदे।
कालातीता काली, कमला तू वरदे॥ जगजननी…

शक्ति शक्तिधर तू ही, नित्य अभेदमयी।
भेद प्रदर्शिनि वाणी विमले! वेदत्रयी॥ जगजननी…

हम अति दीन दु:खी माँ! विपत जाल घेरे।
हैं कपूत अति कपटी, पर बालक तेरे॥ जगजननी…

निज स्वभाववश जननी! दयादृष्टि कीजै।
करुणा कर करुणामयी! चरण शरण दीजै॥ जगजननी मां…

PDF's Related to जगजननी जय जय आरती

जगजननी जय जय आरती PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of जगजननी जय जय आरती PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • Laxmi Chalisa (लक्ष्मी चालीसा) Hindi

    श्री लक्ष्मी चालीसा इन हिन्दी PDF (Laxmi Chalisa) हिन्दी अनुवाद सहित: प्रत्‍येक वर्ष कार्तिक कृष्‍ण अमावस्‍या के द‍िन लक्ष्‍मी पूजन करने का व‍िधान है। इस द‍िन भगवान श्रीराम रावण का वध करके लंका व‍िजय प्राप्‍त करके अयोध्‍या लौटे थे। इसी द‍िन भगवान व‍िष्‍णु ने दैत्‍यराज बलि की कैद से लक्ष्‍मी...

  • श्री दुर्गा चालीसा पाठ (Durga Chalisa) Hindi

    श्री दुर्गा चालीसा हिन्दी में आरती और पूजा विधि सहित – मां दुर्गा को जल्‍द प्रसन्‍न करने और उनका आशीर्वाद सदैव अपने परिवार पर बनाएं रखने के लिए प्रत्‍येक मनुष्‍य को हर रोज या फिर विशेष तौर पर नवरात्र में दुर्गा चालीसा का पाठ करना चाहिए। मां की स्‍तुति के...