धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti Hindi PDF

धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti Hindi

भगवान् धन्वंतरि जी को स्वाथ्य का देवता माना जाता है। धन्वंतरि जी को प्रसन्न करने के लिए उनका विधि – विधान से पूजन करना चाहिए। धन्वंतरि जी की पूजा – अर्चना करने से विभिन्न प्रकार की स्वाथ्य सम्बन्धी समस्याओं का नाश होता हैं।

हिन्दू धर्म के अनुसार दिवाली त्योहार की शुरुवात में धनतेरस का त्योहार आता है। इस दिन लोग अपने घर के लिए नए भर्तन या फिर चांदी और सोने के सिक्के खरीद कर घर लेट हैं।  धन्वन्तरि जी की पूजा वैसे तो आप प्रतिदिन कर सकते हैं, लेकिन यदि आप प्रतिदिन पूजन करने में असमर्थ हैं तो कम से कम धनतेरस के दिन तो आपको भगवान् श्री धन्वंतरि जी का पूजन अवश्य करें। यह पूजन करने से आप अपने जीवन में अच्छे स्वास्थ्य को आकर्षित करते हैं तथा आपका परिवार भी स्वास्थ्य रहता है।

भगवान धन्वंतरि जी की आरती / Dhanvantari Aarti Lyrics in Hindi

जय धन्वन्तरि देवा,जय धन्वन्तरि जी देवा।

जरा-रोग से पीड़ितजन-जन सुख देवा॥

जय धन्वन्तरि देवा…॥

तुम समुद्र से निकले,अमृत कलश लिए।

देवासुर के संकटआकर दूर किए॥

जय धन्वन्तरि देवा…॥

आयुर्वेद बनाया,जग में फैलाया।

सदा स्वस्थ रहने का,साधन बतलाया॥

जय धन्वन्तरि देवा…॥

भुजा चार अति सुन्दर,शंख सुधा धारी।

आयुर्वेद वनस्पति सेशोभा भारी॥

जय धन्वन्तरि देवा…॥

तुम को जो नित ध्यावे,रोग नहीं आवे।

असाध्य रोग भी उसका,निश्चय मिट जावे॥

जय धन्वन्तरि देवा…॥

हाथ जोड़कर प्रभुजी,दास खड़ा तेरा

वैद्य-समाज तुम्हारेचरणों का घेरा॥

जय धन्वन्तरि देवा…॥

धन्वन्तरिजी की आरतीजो कोई नर गावे।

रोग-शोक न आए,सुख-समृद्धि पावे॥

जय धन्वन्तरि देवा…॥

भगवान धन्वंतरि के मंत्र / Bhagwan Dhanvantari Mantra

ॐ श्री धनवंतरै नम:

ॐ नमो भगवते महासुदर्शनाय वासुदेवाय धनवंतराये:,

अमृतकलश हस्ताय सर्वभय विनाशाय सर्वरोगनिवारणाय,

त्रिलोकपथाय त्रिलोकनाथाय श्री महाविष्णुस्वरूप,

श्री धन्वंतरि स्वरूप श्री श्री श्री अष्टचक्र नारायणाय नमः

ॐ शंखं चक्रं जलौकां दधदमृतघटं चारुदोर्भिश्चतुर्मिः,

सूक्ष्मस्वच्छातिहृद्यांशुक परिविलसन्मौलिमंभोजनेत्रम,

कालाम्भोदोज्ज्वलांगं कटितटविलसच्चारूपीतांबराढ्यम,

वन्दे धन्वंतरिं तं निखिलगदवनप्रौढदावाग्निलीलम.

धन्वंतरि पूजा मुहूर्त / Dhanvantari Puja Muhurat

पूजन का शुभ समय शाम 5 बजे से 06:30 मिनट तक रहेगा. इसके अलावा शाम 06:30 मिनट से रात 08:11 मिनट का समय भी पूजा के लिए शुभ है।

2nd Page of धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti PDF
धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti
PDF's Related to धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti

धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of धन्वंतरि आरती | Dhanvantri Aarti PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • TulsiVivahMangalashtakMarathi

    हिंदू धर्मात, तुलसी विवाह हा दरवर्षी कार्तिक महिन्याच्या देवउठनी शुक्ल पक्षाच्या एकादशीला साजरा केला जातो. देवउठनी एकादशीला चार महिन्यांच्या झोपेनंतर भगवान विष्णू जागे होतात. यानंतर सर्व प्रकारचे शुभ कार्य सुरू होते. तुळशी विवाहात माता तुळशीचा विवाह शालिग्रामशी होतो. जो तुळशीविवाहाचा विधी करतो त्याला कन्यादानाएवढे पुण्य मिळते. तुलसी विवाह कसा केला...

  • कुबेर मंत्र | Kuber Mantra and Aarti Hindi

    धनतेरस पर भगवान गणेश, कुबरे जी और माता लक्ष्मी की भी विधि- विधान से पूजा- अर्चना की जाती है। कुबेर जी को धन का देवता कहा जाता है। कुबेर जी की कृपा से व्यक्ति का जीवन सुखमय हो जाता है। भगवान कुबेर को प्रसन्न करने के लिए धनतेरस के पावन...

  • धनतेरस पूजा विधि (Dhanteras Puja Vidhi and Samagri List) Hindi

    धनतेरस के दिन पूजन करने से व्यक्ति के घर में सुख – संपत्ति का आगमन होता है। यदि आपके घर में लम्बे समय से कोई मांगलिक कार्य नहीं हुआ, तो आप धनतेरस के दिन यह पूजन अवश्य करें। धनतेरस के धन्वन्तरि व कुबेर देव की पूजा की जाती है। इन...