Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्गीता) Hindi PDF

Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्गीता) Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

श्रीमद्भगवद्गीता Hindi

वास्तवमे श्रीमद्भगवद्भीता का माहात्म्य वाणीद्वारा वर्णन करनेके लिये किसीकी भी सामर्थ्य नहीं है; क्योंकि यह एक परम रहस्यमय ग्रन्थ है। इसमें सम्पूर्ण वेदोंका सार सार संग्रह किया गया है। इसकी संस्कृत इतनी सुन्दर और सरल है कि थोड़ा अभ्यास करनेसे मनुष्य उसको सहज ही समझ सकता है; परन्तु इसका आशय इतना गम्भीर है कि आजीवन निरन्तर अभ्यास करते रहनेपर भी उसका अन्त नहीं आता। प्रतिदिन नये-नये भाव उत्पन्न होते रहते हैं, इससे यह सदैव नवीन बना रहता है एवं एकाग्रचित्त होकर श्रद्धा-भक्तिसहित विचार करनेसे इसके पद-पदमें परम रहस्य भरा हुआ प्रत्यक्ष प्रतीत होता है। भगवान्‌के गुण, प्रभाव और मर्मका वर्णन जिस प्रकार इस गीताशास्त्रमें किया गया है, वैसा अन्य ग्रन्थोंमें मिलना कठिन है; क्योंकि प्रायः ग्रन्थोंमें कुछ-न-कुछ सांसारिक विषय मिला रहता है। भगवान्ने ‘श्रीमद्भगवद्गीता’ रूप एक ऐसा अनुपमेय शास्त्र कहा है कि जिसमें एक भी शब्द सदुपदेशसे खाली नहीं है।

गीता स्वयं कर्म संहिता है। इसमें नियत, काम्य एवं निषिद्ध कर्मों के साथ कर्म अकर्म की भी विवेचना है। शास्त्र विहित यज्ञ, दान, तप आदि कर्म ज्ञानवान् को पवित्र करते हैं, अतः करने योग्य होते हैं। पुत्र कलत्र धन समृद्धि की कामना से किये गए कर्म काम्यकर्म कहलाते हैं। चोरी, झूठ, कपट, छल, हिंसा आदि स्वार्थ के लिए किये जाने वाले निषिद्ध कर्म दूषित होने से त्याज्य हैं। कर्म त्याग मात्र से कोई संन्यासी योगी नहीं हो जाता, जब तक संकल्पों कामनाओं का त्याग न हो। बाहर से मन को वश में करने का दिखावा करने वाले किन्तु अन्दर से दूषित कामनाएँ पालने वाले दम्भी होते हैं।

Bhagavad Gita in Hindi (श्रीमद्भगवद्गीता)

भगवद-गीता प्राचीन भारत से आध्यात्मिक ज्ञान का शाश्वत संदेश है। गीता शब्द का अर्थ है गीत और शब्द। भगवद का अर्थ है भगवान, अक्सर भगवद-गीता को भगवान का गीत कहा जाता है। भगवद गीता धर्म, आस्तिक भक्ति और मोक्ष के योगिक आदर्शों के बारे में हिंदू विचारों का संश्लेषण प्रस्तुत करती है। पाठ में ज्ञान, भक्ति, कर्म और राज योग (6 वें अध्याय में कहा गया) शामिल हैं, जिसमें सांख्य-योग दर्शन के विचारों को शामिल किया गया है।

गीता पांडव राजकुमार अर्जुन और उनके मार्गदर्शक और सारथी कृष्ण के बीच एक संवाद के एक कथात्मक ढांचे में स्थापित है। पांडवों और कौरवों के बीच धर्म युद्ध (धार्मिक युद्ध) की शुरुआत में, अर्जुन अपने ही रिश्तेदारों के खिलाफ युद्ध में होने वाली हिंसा और मृत्यु के बारे में नैतिक दुविधा और निराशा से भर जाता है। कृष्ण-अर्जुन संवाद आध्यात्मिक विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर करते हैं, जो नैतिक दुविधाओं और दार्शनिक मुद्दों को छूते हैं जो अर्जुन के युद्ध से बहुत आगे जाते हैं।

Bhagavad Gita Saar in Hindi

गीता सार में श्री कृष्ण ने कहा है कि हर इंसान के द्धारा जन्म-मरण के चक्र को जान लेना बेहद आवश्यक है, क्योंकि मनुष्य के जीवन का मात्र एक ही सत्य है और वो है मृत्यु। क्योंकि जिस इंसान ने इस दुनिया में जन्म लिया है। उसे एक दिन इस संसार को छोड़ कर जाना ही है और यही इस दुनिया का अटल सत्य है। लेकिन इस बात से भी नहीं नकारा जा सकता है कि हर इंसान अपनी मौत से भयभीत रहता है।

श्री कृष्ण ने Geeta Saar में बताया है कि कोई भी व्यक्ति अपने कर्म को नहीं छोड़ सकता है अर्थात् जो साधारण समझ के लोग कर्म में लगे रहते हैं उन्हें उस मार्ग से हटाना ठीक नहीं है क्योंकि वे ज्ञानवादी नहीं बन सकते। अर्थात मनुष्य के जीवन की अटल सच्चाई से भयभीत होना, इंसान की वर्तमान खुशियों को भी खराब कर देता है। इसलिए किसी भी तरह का डर नहीं रखना चाहिए।

वहीं अगर उनका कर्म भी छूट गया तो वे दोनों तरफ से भटक जाएंगे। और प्रकृति व्यक्ति को कर्म करने के लिए बाध्य करती है। जो व्यक्ति कर्म से बचना चाहता है वह ऊपर से तो कर्म छोड़ देता है लेकिन मन ही मन उसमे डूबा रहता है। अर्थात जिस तरह व्यक्ति का स्वभाव होता है वह उसी के अनूरुप अपने कर्म करता है।

हे अर्जुन! मैं ही गर्मी प्रदान करता हूँ और बारिश को लाता और रोकता हूँ। मैं अमर हूँ और साक्षात् मृत्यु भी हूँ। आत्मा तथा पदार्थ दोनों मुझ ही में हैं। जो लोग भक्ति में श्रद्धा नहीं रखते, वे मुझे पा नहीं सकते। अतः वे इस दुनिया में जन्म-मृत्यु के रास्ते पर वापस आते रहते हैं। जिसने जन्म लिया है उसकी मृत्यु निश्चित है और मृत्यु के पश्चात् पुनर्जन्म भी निश्चित है। प्रत्येक बुद्धिमान व्यक्ति को क्रोध और लोभ त्याग देना चाहिए क्योंकि इससे आत्मा का पतन होता है। हे अर्जुन! क्रोध से भ्रम पैदा होता है, भ्रम से बुद्धि व्यग्र होती है, जब बुद्धि व्यग्र होती है, तब तर्क नष्ट हो जाता है, जब तर्क नष्ट होता है तब व्यक्ति का पतन हो जाता है।

Download the Shrimad Bhagavad Gita by Gita Press Gorakhpur PDF format using the link given below.

2nd Page of Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्गीता) PDF
Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्गीता)

Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्गीता) PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्गीता) PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • Bagavath Geethai ( பகவத் கீதை) Book in Tamil

    Bhagavad Gita is also called Gita Upanishad. During the war of Mahabharata, when Arjuna refuses to fight, then Shri Krishna preaches to him, and makes him aware of the true knowledge of Karma and Dharma. These teachings of Shri Krishna have been compiled in a book called “Bhagavad Gita”. When...

  • Bhagavad Gita Punjabi

    The Bhagavad Gita is an ancient Indian text that became an important work of Hindu tradition in terms of both literature and philosophy. The Bhagavad Gita was written at some point between 400 BCE and 200 CE. Like the Vedas and the Upanishads, the authorship of the Bhagavad Gita is...

  • Bhagavad Gita Gujarati

    The Bhagavad Gita is an ancient Indian text that became an important work of Hindu tradition in terms of both literature and philosophy. The Bhagavad Gita was written at some point between 400 BCE and 200 CE. Like the Vedas and the Upanishads, the authorship of the Bhagavad Gita is...

  • Bhagavad Gita Bhashya

    The Bhagavad Gita is an ancient Indian text that became an important work of Hindu tradition in terms of both literature and philosophy. The Bhagavad Gita was written at some point between 400 BCE and 200 CE. Like the Vedas and the Upanishads, the authorship of the Bhagavad Gita is...

  • Bhagavad Gita Book Marathi

    The Bhagavad Gita is an ancient Indian text that became an important work of Hindu tradition in terms of both literature and philosophy. The Bhagavad Gita was written at some point between 400 BCE and 200 CE. Like the Vedas and the Upanishads, the authorship of the Bhagavad Gita is...

  • Bhagavad Gita Book Kannada

    Bhagavad Gita is a holy book of Hindus written in the Sanskrit language by Maharishi Ved Vyas ji, it has total of 18 chapters and 700 verses. It is made up of all these Verses and Chapters. The Gita also has the same place, which has been given to the...

  • Haryana Road Map

    The present state of HARYANA, which derives its name from the great epic of India, Mahabharata as Bahudhanyaka i.e. Land of plentiful grains, and Bahudhana i.e. Land of immense riches. Haryana stæe has highly fertile land and is undoubtedly the industrial hub of India. The name Haryana, itself means The...

  • Krishna Sahasranamam (ஶ்ரீ க்ருஷ்ண ஸஹஸ்ரனாம ஸ்தோத்ரம்) Tamil

    The “Krishna Sahasranama” is a sacred Hindu text that contains a list of one thousand names or attributes of Lord Krishna, who is considered one of the principal deities in Hinduism. These names describe various aspects of Lord Krishna’s divine personality, qualities, and actions. The Krishna Sahasranama is often chanted...

  • List of Books Written by Mahatma Gandhi

    The book gives us a glimpse of the unique and shrewd strategies used by Gandhiji to bring independence of India. Richard Attenborough adapted this book into the award-winning motion picture “Gandhi”. Mahatma Gandhi was inspired by Leo Tolstoy’s work, ‘The Kingdom of God is within you’, John Ruskin’s work, ‘Unto this...