प्राचीन भारत का इतिहास Hindi PDF

प्राचीन भारत का इतिहास Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

प्राचीन भारत का इतिहास Hindi

प्राचीन भारत के इतिहास की शुरुआत 1200 ईसापूर्व से 240 ईसा पूर्व के बीच नहीं हुई थी। यदि हम धार्मिक इतिहास के लाखों वर्ष प्राचीन इतिहास को न भी मानें तो संस्कृ‍त और कई प्राचीन भाषाओं के इतिहास के तथ्‍यों के अनुसार प्राचीन भारत के इतिहास की शुरुआत लगभग 13 हजार ईसापूर्व हुई थी अर्थात आज से 15 हजार वर्ष पूर्व। इस अवधि में महाजनपदों या सोलह गणराज्यों का भी उदय हुआ, और ये राज्य थे – अंग, अवंती, अस्सक, चेदि, गांधार, काशी, कम्बोज, कोसल, कुरु, मल्ल, मत्स्य, मगध, पांचाल, सुरसेन, वत्स और व्रिजी।

प्राचीनकाल से भारतभूमि के अलग-अलग नाम रहे हैं मसलन जम्बूद्वीप, भारतखण्ड, हिमवर्ष, अजनाभवर्ष, भारतवर्ष, आर्यावर्त, हिन्द, हिन्दुस्तान और इंडिया।  प्राचीन भारत के इतिहास में वैदिक सभ्यता सबसे प्रारम्भिक सभ्यता है जिसका सम्बन्ध आर्यों के आगमन से है। इसका नामकरण आर्यों के प्रारम्भिक साहित्य वेदों के नाम पर किया गया है। आर्यों की भाषा संस्कृत थी और धर्म “वैदिक धर्म” या “सनातन धर्म” के नाम से प्रसिद्ध था, बाद में विदेशी आक्रान्ताओं द्वारा इस धर्म का नाम हिन्दू पड़ा।प्राचीन इतिहास अतीत की घटनाओं का समुच्चय है। इसकी शुरआत दर्ज किये गए मानव इतिहास से प्रारंभिक मध्य युग, यहाँ तक कि वैदिक युग तक विस्तृत है। इतिहास की अवधि 5000 साल है जिसकी शुरुआत सुमेरियन क्यूनीफ़ॉर्म लिपि, जो 30 वीं सदी की प्राचीनतम व सुसंगत लेखन पद्दति है, से होती है।

प्राचीन भारत का इतिहास PDF – सिंधु घाटी काल

जैसे ही हम सिंधु घाटी काल में आते हैं, मिट्टी, पकी हुई ईंटों और यहाँ तक कि पत्थरों से भी निर्मित काफी विस्तृत किलेबंदी दिखाई देती है। यह अवधि पुरातात्विक साक्ष्यों से समृद्ध है जो इसकी वास्तुशिल्पीय विरासत को गहराई से समझने में मदद करती है। सिंधु घाटी नगर नियोजन की एक महत्वपूर्ण विशेषता थी वहाँ की बस्तियों को दो अलग-अलग क्षेत्रों में विभाजित करना: नगरकोट (गढ़) और निचला शहर। मोहनजोदड़ो का शहर भी इन दो व्यापक भागों में विभाजित था, और नगरकोट (गढ़) क्षेत्र अतिरिक्त रूप से एक खाई से घिरा हुआ था। कोट दीजी (3300 ईसा पूर्व) चूना पत्थर के मलबे और मिट्टी के ईंट से बनी एक विशाल दीवार से युक्त दृढ़ीकृत स्थान था, और इस बस्ती में एक नगरकोट (गढ़) परिसर तथा एक निचला आवासीय क्षेत्र शामिल था।

कालीबंगा (2920-2550 ईसा पूर्व) बड़े पैमाने पर मिट्टी के ईंट से बनी किलेबंदी से घिरा हुआ था। कच्छ और सौराष्ट्र के चट्टानी इलाकों में दृढ़ीकृत दीवारों के निर्माण में पत्थर का व्यापक रूप से उपयोग हुआ था। कच्छ के रण में धोलावीरा को, मिट्टी के गारे में स्थापित पत्थर के मलबे से बनी, एक शानदार दीवार के साथ मजबूत बनाया गया था। किलेबंदी की यह विशाल दीवार और गढ़ में पत्थर के खंभों के अवशेष बहुत विशिष्ट हैं तथा ये किसी भी अन्य हड़प्पा स्थल पर नहीं देखे गए हैं।

कई विद्वान इन निर्माणों को रक्षात्मक कार्य के लिए निर्मित नहीं मानते हैं, लेकिन उन्हें या तो बाढ़ के खिलाफ सुरक्षात्मक तटबंध या सामाजिक कार्यों के लिए बनाए गए ढांचे के रूप में मानते हैं। हालांकि, किलेबंदी, विशेष रूप से धोलावीरा जैसी भव्य किलेबंदी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। सिंधु घाटी सभ्यता को सम्मिलित करते इतने लंबे समय में इतने बड़े क्षेत्र में बल और संघर्ष पूरी तरह से अनुपस्थित नहीं हो सकता था।

पुरापाषाण युग

हिमयुग का अधिकांश भाग पुरापाषाण काल में बीता है। भारतीय पुरापाषाण युग को औजारों, जलवायु परिवर्तनों के आधार पर तीन भागों में बांटा जाता है –

  • आरंभिक या निम्न पुरापाषाण युग (25,00,000 ईस्वी पूर्व – 100,000 ई. पू.)
  • मध्य पुरापाषाण युग (1,00,000 ई. पू. – 40,000 ई. पू.)
  • उच्च पुरापाषाण युग (40,000 ई.पू – 10,000 ई.पू.)

आदिम मानव के जीवाश्म भारत में नहीं मिले हैं। महाराष्ट्र के बोरी नामक स्थान पर मिले तथ्यों से अंदेशा होता है कि मानव की उत्पत्ति 14 लाख वर्ष पूर्व हुई होगी। यह बात लगभग सर्वमान्य है कि अफ़्रीका की अपेक्षा भारत में मानव बाद में बसे। यद्दपि यहां के लोगों का पाषाण कौशल लगभग उसी तरह विकसित हुआ जिस तरह अफ़्रीका में। इस समय का मानव अपना भोजन कठिनाई से ही बटोर पाता था। वह ना तो खेती करना जानता था और ना ही घर बनाना। यह अवस्था 9000 ई.पू. तक रही होगी।

पुरापाषाण काल के औजार छोटानागपुर के पठार में मिले हैं जो 1,00,000 ई.पू. तक हो सकते हैं। आंध्र प्रदेश के कुर्नूल जिले में 20,000 ई.पू. से 10,000 ई.पू. के मध्य के औजार मिले हैं। इनके साथ हड्डी के उपकरण और पशुओं के अवशेष भी मिले हैं। उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर जिले की बेलन घाटी में जो पशुओं के अवशेष मिले हैं उनसे ज्ञात होता है कि बकरी, भेड़, गाय, भैंस इत्यादि पाले जाते थे। फिर भी पुरापाषाण युग की आदिम अवस्था का मानव शिकार और खाद्य संग्रह पर जीता था। पुराणों में केवल फल और कन्द मूल खाकर जीने वालों का जिक्र है। इस तरह के कुछ लोग तो आधुनिक काल तक पर्वतों और गुफाओं में रहते आए हैं।

प्राचीन भारत का इतिहास PDF मौर्य काल

नंद वंश के पतन के बाद, चंद्रगुप्त मौर्य अपने सुप्रसिद्ध मंत्री कौटिल्य की मदद से महान मौर्य वंश (321 ईसा पूर्व) के पहले राजा बने। कौटिल्य का राजनीतिक ग्रंथ, अर्थशास्त्र, वास्तव में सैन्य संस्थानों और उस अवधि की किलेबंदी को समझने के लिए सबसे महत्वपूर्ण साहित्यिक स्रोतों में से एक है। इसमें दी गई सप्तांग राज्य की अवधारणा राज्य को सात अंतर-संबंधित तत्वों से युक्त मानती है – स्वामी (राजा), अमात्य (मंत्री), जनपद (क्षेत्र और लोग), दंड (न्याय), दुर्ग (किलेबंदी वाली राजधानी), कोष (खजाना), और मित्र (सहयोगी)। चौथे तत्व अर्थात दुर्ग का वर्णन करते हुए उन्होंने इसकी रचना के लिए विस्तृत निर्देश दिए हैं।

वे ईंट या पत्थर की मुँडेरों के साथ मिट्टी के परकोटे बनाने की सलाह देते हैं, और सुझाव देते हैं कि किले के चारों ओर सैनिकों को तैनात किया जाए। किले की दीवारों को कमल और मगरमच्छों से भरी तीन खाइयों (खंदकों) से घिरा होना चाहिए। किले में, घेराबंदी के अंत तक अच्छी तरह से चलने वाली खाद्य आपूर्ति की जानी चाहिए और भागने के लिए गुप्त मार्ग होने चाहिए।

कौटिल्य ने किलों की विभिन्न श्रेणियों का भी उल्लेख किया है: धन्व दुर्ग या रेगिस्तान का किला; माही दुर्ग या मिट्टी का किला; जल दुर्ग या जल किला; गिरि दुर्ग या पहाड़ी किला; वन दुर्ग या वन किला; वफादार सैनिकों द्वारा संरक्षित किला या नर दुर्ग। अंतिम मौर्य राजा को पुष्यमित्र शुंग ने उखाड़ फेंका, और उन्होंने 187 ईसा पूर्व में शुंग वंश की स्थापना की। शुंग काल से संबंधित किलेबंदी की पहचान बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के कटरागढ़ में की गई थी, जिसमें, मिट्टी के भीतरी भाग और खाई से युक्त, पकी हुई ईंट की दीवारों से बने परकोटे शामिल थे।

प्राचीन भारत का इतिहास PDF वैदिक काल

वैदिक काल से मिले साक्ष्य साहित्य के रूप में अधिक और भौतिक पुरातात्विक साक्ष्य के रूप में कम मिलते हैं। ऋग्वेद में दिवोदास के नाम से एक प्रसिद्ध भरत राजा का उल्लेख है, जिन्होंने दास शासक शंबर को हराया था, जिन्होंने कई पहाड़ी किलों की कमान संभाली हुई थी। इसमें पुर नामक किलेबंदी में रहने वाली जनजातियों का भी उल्लेख है। ऐतरेय ब्राह्मण तीन यज्ञ अग्नियों को तीन किलों के रूप में संदर्भित करता है जो असुरों (राक्षसों) को यज्ञ बलिदान में बाधा डालने से रोकती हैं। इंद्र को वैदिक साहित्य में पुरंदर या किलों के विनाशक के रूप में संदर्भित किया गया है।

ऋग्वेद

  • ऋग्वेद देवताओं की स्तुति से सम्बंधित रचनाओं का संग्रह है।
  • यह 10 मंडलों में विभक्त है। इसमे 2 से 7 तक के मंडल प्राचीनतम माने जाते हैं। प्रथम एवं दशम मंडल बाद में जोड़े गए हैं। इसमें 1028 सूक्त हैं।
  • इसकी भाषा पद्यात्मक है।
  • ऋग्वेद में 33 प्रकार के देवों (दिव्य गुणो से युक्त पदार्थो) का उल्लेख मिलता है।
  • प्रसिद्ध गायत्री मंत्र जो सूर्य से सम्बंधित देवी गायत्री को संबोधित है, ऋग्वेद में सर्वप्रथम प्राप्त होता है।
  • ‘ असतो मा सद्गमय ‘ वाक्य ऋग्वेद से लिया गया है।
  • ऋग्वेद में मंत्र को कंठस्त करने में स्त्रियों के नाम भी मिलते हैं, जिनमें प्रमुख हैं- लोपामुद्रा, घोषा, शाची, पौलोमी एवं काक्षावृती आदि।
  • इसके पुरोहित के नाम होत्री है।

यजुर्वेद

  • यजु का अर्थ होता है यज्ञ। इसमें धनुर्यवीद्या का उल्लेख है।
  • यजुर्वेद वेद में यज्ञ की विधियों का वर्णन किया गया है।
  • इसमे मंत्रों का संकलन आनुष्ठानिक यज्ञ के समय सस्तर पाठ करने के उद्देश्य से किया गया है।
  • इसमे मंत्रों के साथ साथ धार्मिक अनुष्ठानों का भी विवरण है, जिसे मंत्रोच्चारण के साथ संपादित किए जाने का विधान सुझाया गया है।
  • यजुर्वेद की भाषा पद्यात्मक एवं गद्यात्मक दोनों है।
  • यजुर्वेद की दो शाखाएं हैं- कृष्ण यजुर्वेद तथा शुक्ल यजुर्वेद।
  • कृष्ण यजुर्वेद की चार शाखाएं हैं- मैत्रायणी संहिता, काठक संहिता, कपिन्थल तथा संहिता। शुक्ल यजुर्वेद की दो शाखाएं हैं- मध्यान्दीन तथा कण्व संहिता।
  • यह 40 अध्याय में विभाजित है।
  • इसी ग्रन्थ में पहली बार राजसूय तथा वाजपेय जैसे दो राजकीय समारोह का उल्लेख है।

सामवेद

सामवेद की रचना ऋग्वेद में दिए गए मंत्रों को गाने योग्य बनाने हेतु की गयी थी।

  • इसमे 1810 छंद हैं जिनमें 75 को छोड़कर शेष सभी ऋग्वेद में उल्लेखित हैं।
  • सामवेद तीन शाखाओं में विभक्त है- कौथुम, राणायनीय और जैमनीय।
  • सामवेद को भारत की प्रथम संगीतात्मक पुस्तक होने का गौरव प्राप्त है।

अथर्व वेद

  • इस वेद में रहस्यमई विद्याओं, चमत्कार, जादू टोने, आयुर्वेद जड़ी बूटियों का वर्णन मिलता है।
  • इसमें कुल 20 अध्याय में 5687 मंत्र हैं।
  • अथर्ववेद आठ खंड में विभाजित है। इसमें भेषज वेद और धातु वेद दो प्रकार मिलते हैं।

आप नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके प्राचीन भारत का इतिहास PDF में डाउनलोड कर सकते हैं। 

2nd Page of प्राचीन भारत का इतिहास PDF
प्राचीन भारत का इतिहास

प्राचीन भारत का इतिहास PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of प्राचीन भारत का इतिहास PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • 12JyotirlingaNameandPlaceList

    भारत में धार्मिक मान्यताओं और पवित्र मंदिरों से बसा देश है, जहां लोग ईश्वर की आराधना करते हैं। यहां कई सारे प्राचीन और पवित्र मंदिर हैं, इनमें भगवान भोलेनाथ के मंदिरों की महिला ही अपार है। इन्हीं पवित्र शिवालयों में भोलेनाथ के 12 प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग भी हैं। इन ज्योतिर्लिंगों का...

  • 1st Grade History Syllabus Hindi

    राजस्थान लोक सेवा आयोग (RPSC) द्वारा आयोजित स्कूल व्याख्याता प्रतियोगी परीक्षा (RPSC First Grade Teacher ( RPSC 1st Grade Teacher Syllabus ) का पाठ्यक्रम मे 2 पेपर आयोजित होगा । जिसमे वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न होंगे । अधिकतम 450 अंको दो पेपर होंगे । जिन छात्रों ने इस परीक्षा के...

  • 2nd Grade Syllabus 2022 Hindi

    Rajasthan Public Service Commission (RPSC) has released the latest 2nd Grade Syllabus 2022 in Hindi PDF for Paper I & Paper 2 from the official website https://rpsc.rajasthan.gov.in/, or it can be directly downloaded from the link given at the bottom of this page. राजस्थान लोक सेवा आयोग (RPSC) द्वारा आयोजित...

  • Afim Patta List 2023-24

    The entral Bureau of Narcotics has issued the gazette notification for new list Afim Patta List 2023-24 on 21st September 2023 form the official website @http://www.cbn.nic.in or it can be directly downlaoded form the link give at the bottom of this page. अफीम नीति 2023-24 के तहत सभी पात्र किसानों...

  • Agastya Sanhita (अगस्त्य संहिता) Hindi

    अगस्त्य संहिता प्राचीन ऋषि अगस्त्य को जिम्मेदार संस्कृत पाठ में कई कार्यों का शीर्षक है। पंचरात्रगाम की एक संहिता अगस्त्य संहिता है, जो अगस्त्य द्वारा निर्धारित राम, सीता, लक्ष्मण और हनुमान की पूजा के बारे में है। इसे अगस्त्य-सुतीक्ष-संवाद के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि यह ऋषियों सुतीक्ष...

  • Atharva Veda Part 1 Hindi

    Download Atharva Veda Part 1 in Sanskrit to hindi translation in pdf format by using the given link at the bottom of this page and take off the mantras, quotes in your life. These Vedic Mantras and quotes will cleanse your mind and soul and will help you to indwell...

  • Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्गीता) Hindi

    वास्तवमे श्रीमद्भगवद्भीता का माहात्म्य वाणीद्वारा वर्णन करनेके लिये किसीकी भी सामर्थ्य नहीं है; क्योंकि यह एक परम रहस्यमय ग्रन्थ है। इसमें सम्पूर्ण वेदोंका सार सार संग्रह किया गया है। इसकी संस्कृत इतनी सुन्दर और सरल है कि थोड़ा अभ्यास करनेसे मनुष्य उसको सहज ही समझ सकता है; परन्तु इसका आशय...

  • Bharat Ki Nadiya Map Hindi

    भारत देश में मुख्यतः चार नदी प्रणालियाँ (अपवाह तंत्र) हैं। उत्तरी भारत में सिंधु, मध्य भारत में गंगा, उत्तर-पूर्व भारत में ब्रह्मपुत्र नदी प्रणाली है। प्रायद्वीपीय भारत में नर्मदा कावेरी महानदी आदी नदियाँ विस्तृत नदी प्रणाली का निर्माण करती हैं। भारत की नदियों Map PDF में डाउनलोड करने के लिए...

  • Bhartiya Jyotish Vigyan (भारतीय ज्योतिष शास्त्र) Hindi

    प्रत्येक काल में मनुष्य के ज्ञान की एक सीमा रही है । अज्ञात क्षेत्र का ज्ञान प्राप्‍त करने के प्रयास सदैव जारी रहे हैं । प्राचीन भारत में ज्योतिष विज्ञान एक प्रमुख विज्ञान था । लेकिन किसी भी विषय का सामान्य ज्ञान जनसाधारण को न होने की दशा में उस...

  • Bhavishya Malika Book Hindi

    भविष्य मालिका की भविष्य वाणी के अनुसार भारत पर चीन और मुसलमानो के द्वारा संयुक्त आक्रमण किया जायेगा। शनि मीन राशि में जाकर वहां पर ढाई साल के लिए बैठ जायेगा। इस भविष्य मालिका की भविष्य वाणी के अनुसार यदि भारत पर कोई हमला होता है तो देश की बागडोर...