लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF Hindi

लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam Hindi PDF Download

लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam in Hindi PDF download link is available below in the article, download PDF of लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam in Hindi using the direct link given at the bottom of content.

5 People Like This
REPORT THIS PDF ⚐

लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam Hindi PDF

हैलो दोस्तों, आज हम आपके लिए लेकर आये हैं लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF हिन्दी भाषा में। अगर आप लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam हिन्दी पीडीएफ़ डाउनलोड करना चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही जगह आए हैं। इस लेख में हम आपको देंगे लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam के बारे में सम्पूर्ण जानकारी और पीडीएफ़ का direct डाउनलोड लिंक।

लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF का पाठ करने से माँ लक्ष्मी को शीघ्र ही प्रसन्न कर सकते हैं। देवी लक्ष्मी की आराधना करने से व्यक्ति के जीवन में धन – वैभव की वर्षा होती है तथा जातक जीवन में समस्त प्रकार की भौतिक सुख – सुविधाओं को प्राप्त करता है। देवी लक्ष्मी दारिद्य का हरण तथा धन का संचार करने वाली देवी हैं।

ऋग्वेद में माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए ‘श्री-सूक्त’ के पाठ और मन्त्रों के जप तथा मन्त्रों से हवन करने पर मनचाही मनोकामना पूरी होने की बात कही हैं । अगर कोई दिवाली के दिन अमावस्या की रात में इस समय श्री सूक्त का पाठ और मंत्रों से जप करता है उसकी इच्छाएं पूरी होकर ही रहती हैं ।

Lakshmi Suktam Lyrics in Hindi | लक्ष्मी सूक्त हिन्दी अनुवाद सहित

पद्मानने पद्मिनि पद्मपत्रे पद्मप्रिये पद्मदलायताक्षि।
विश्वप्रिये विश्वमनोऽनुकूले त्वत्पादपद्मं मयि सन्निधत्स्व॥

अर्थ :- हे लक्ष्मी देवी! आप कमलमुखी, कमल पुष्प पर विराजमान, कमल-दल के समान नेत्रों वाली, कमल पुष्पों को पसंद करने वाली हैं। सृष्टि के सभी जीव आपकी कृपा की कामना करते हैं। आप सबको मनोनुकूल फल देने वाली हैं। हे देवी! आपके चरण-कमल सदैव मेरे हृदय में स्थित हों।

पद्मानने पद्मऊरू पद्माक्षी पद्मसम्भवे।
तन्मे भजसिं पद्माक्षि येन सौख्यं लभाम्यहम्‌॥

अर्थ :- हे लक्ष्मी देवी! आपका श्रीमुख, ऊरु भाग, नेत्र आदि कमल के समान हैं। आपकी उत्पत्ति कमल से हुई है। हे कमलनयनी! मैं आपका स्मरण करता हूँ, आप मुझ पर कृपा करें।

अश्वदायी गोदायी धनदायी महाधने।
धनं मे जुष तां देवि सर्वांकामांश्च देहि मे॥

अर्थ :- हे देवी! अश्व, गौ, धन आदि देने में आप समर्थ हैं। आप मुझे धन प्रदान करें। हे माता! मेरी सभी कामनाओं को आप पूर्ण करें।

पुत्र पौत्र धनं धान्यं हस्त्यश्वादिगवेरथम्‌।
प्रजानां भवसी माता आयुष्मंतं करोतु मे॥

अर्थ :-हे देवी! आप सृष्टि के समस्त जीवों की माता हैं। आप मुझे पुत्र-पौत्र, धन-धान्य, हाथी-घोड़े, गौ, बैल, रथ आदि प्रदान करें। आप मुझे दीर्घ-आयुष्य बनाएँ।

धनमाग्नि धनं वायुर्धनं सूर्यो धनं वसु।
धन मिंद्रो बृहस्पतिर्वरुणां धनमस्तु मे॥

अर्थ :- हे लक्ष्मी! आप मुझे अग्नि, धन, वायु, सूर्य, जल, बृहस्पति, वरुण आदि की कृपा द्वारा धन की प्राप्ति कराएँ।

वैनतेय सोमं पिव सोमं पिवतु वृत्रहा।
सोमं धनस्य सोमिनो मह्यं ददातु सोमिनः॥

अर्थ :- हे वैनतेय पुत्र गरुड़! वृत्रासुर के वधकर्ता, इंद्र, आदि समस्त देव जो अमृत पीने वाले हैं, मुझे अमृतयुक्त धन प्रदान करें।

न क्रोधो न च मात्सर्यं न लोभो नाशुभामतिः।
भवन्ति कृतपुण्यानां भक्तानां सूक्त जापिनाम्‌॥

अर्थ :-इस सूक्त का पाठ करने वाले की क्रोध, मत्सर, लोभ व अन्य अशुभ कर्मों में वृत्ति नहीं रहती, वे सत्कर्म की ओर प्रेरित होते हैं।

सरसिजनिलये सरोजहस्ते धवलतरांशुक गंधमाल्यशोभे।
भगवति हरिवल्लभे मनोज्ञे त्रिभुवनभूतिकरी प्रसीद मह्यम्‌॥

अर्थ :- हे त्रिभुवनेश्वरी! हे कमलनिवासिनी! आप हाथ में कमल धारण किए रहती हैं। श्वेत, स्वच्छ वस्त्र, चंदन व माला से युक्त हे विष्णुप्रिया देवी! आप सबके मन की जानने वाली हैं। आप मुझ दीन पर कृपा करें।

विष्णुपत्नीं क्षमां देवीं माधवीं माधवप्रियाम्‌।
लक्ष्मीं प्रियसखीं देवीं नमाम्यच्युतवल्लभाम॥

अर्थ :- भगवान विष्णु की प्रिय पत्नी, माधवप्रिया, भगवान अच्युत की प्रेयसी, क्षमा की मूर्ति, लक्ष्मी देवी मैं आपको बारंबार नमन करता हूँ।

महादेव्यै च विद्महे विष्णुपत्न्यै च धीमहि।
तन्नो लक्ष्मीः प्रचोदयात्‌॥

अर्थ :- हम महादेवी लक्ष्मी का स्मरण करते हैं। विष्णुपत्नी लक्ष्मी हम पर कृपा करें, वे देवी हमें सत्कार्यों की ओर प्रवृत्त करें।

चंद्रप्रभां लक्ष्मीमेशानीं सूर्याभांलक्ष्मीमेश्वरीम्‌।
चंद्र सूर्याग्निसंकाशां श्रिय देवीमुपास्महे॥

अर्थ :- जो चंद्रमा की आभा के समान शीतल और सूर्य के समान परम तेजोमय हैं उन परमेश्वरी लक्ष्मीजी की हम आराधना करते हैं।

श्रीर्वर्चस्वमायुष्यमारोग्यमाभिधाच्छ्रोभमानं महीयते।
धान्य धनं पशु बहु पुत्रलाभम्‌ सत्संवत्सरं दीर्घमायुः॥

अर्थ :- इस लक्ष्मी सूक्त का पाठ करने से व्यक्ति श्री, तेज, आयु, स्वास्थ्य से युक्त होकर शोभायमान रहता है। वह धन-धान्य व पशु धन सम्पन्न, पुत्रवान होकर दीर्घायु होता है।

लक्ष्मी सूक्त पाठ के लाभ

]लक्ष्मी सूक्त के पाठ से होने वाले लाभ निम्नलिखित हैं –

  • इस सूक्त के नियमित पाठ से जातक शीघ्र ही ऋणमुक्त हो जाता है।
  • लक्ष्मी सूक्तम के पाठ से घर में धनागमन के नए मार्ग बनते हैं।
  • रोजगार सम्बन्धी समस्याओं में भी इसका लाभ होता है।
  • लक्ष्मी सकता का प्रतिदिन पाठ करने से जातक को मानसिक शांति मिलती है।
  • देवी लक्ष्मी की कृपा से घर में मांगलिक कार्य होते हैं।

लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF

आप नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF में डाउनलोड कर सकते हैं।

लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF - 2nd Page
लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF - PAGE 2

लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF Download Link

REPORT THISIf the purchase / download link of लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If लक्ष्मी सूक्त | Lakshmi Suktam is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

RELATED PDF FILES

Leave a Reply

Your email address will not be published.