बृहस्पति स्तोत्र | Brihaspati Stotram Sanskrit PDF

बृहस्पति स्तोत्र | Brihaspati Stotram Sanskrit PDF download free from the direct link given below in the page.

❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

बृहस्पति स्तोत्र | Brihaspati Stotram Sanskrit

Brihaspati Stotram PDF in Sanskrit के सन्दर्भ में जानकारी प्रदान कर रहे हैं। वैदिक ज्योतिष के अनुसार बृहस्पति गृह का स्थान सम्पूर्ण ग्रहमण्डल में सर्वाधिक उच्च स्थान है तथा उन्हें देव गुरु की उपाधि भी दी गयी है। देवगुरु बृहस्पति जातक के जीवन में विभिन्न घटनाओं को नियंत्रित करता है।

बृहस्पति स्तोत्र एक अत्यधिक प्रभावशाली स्तोत्र है। गुरु बृहस्पति स्तोत्र का पाठ करने से जातक के जीवन से विवाह सम्बन्धी समस्याओं का नाश होता है तथा सामाजिक मान – सम्मान में वृद्धि होती है। जातक की कुण्डली में चल रही गुरु की अन्तर्दशा व महादशा के समय श्री गुरु बृहस्पति स्तोत्र के पाठ से अत्यधिक लाभ होता है। यदि आप भी इस दिव्य बृहस्पति स्तोत्र pdf इन हिंदी को प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लेख के अन्त में दिए गए डाउनलोड लिंक पर क्लिक करें।

बृहस्पति स्तोत्र / Brihaspati Stotram in Sanskrit

मित्रों यदि आप श्री बृहस्पति स्तोत्र को मन्त्र पढ़ना चाहते हैं तो यहाँ हमने बृहस्पति स्तोत्र लिरिक्स दिए हुए हैं जिन्हे पढ़ कर आप इस स्तोत्र का पाठ कर सकते हैं। इसके पाठ के परिणाम आप शीघ्र ही अनुभव करने लगेंगे। विद्द्वानो के अनुसार इस स्तोत्र के प्रभाव से विवाह में उत्पन्न होने वाले व्यवधान भी दूर होते हैं।

।। बृहस्पतिस्तोत्रम् ।।

श्री गणेशाय नमः ।

अस्य श्रीबृहस्पतिस्तोत्रस्य गृत्समद ऋषिः, अनुष्टुप् छन्दः,

बृहस्पतिर्देवता, बृहस्पतिप्रीत्यर्थं जपे विनियोगः ।

गुरुर्बृहस्पतिर्जीवः सुराचार्यो विदांवरः ।

वागीशो धिषणो दीर्घश्मश्रुः पीताम्बरो युवा ॥ १॥

सुधादृष्टिर्ग्रहाधीशो ग्रहपीडापहारकः ।

दयाकरः सौम्यमूर्तिः सुरार्च्यः कुङ्मलद्युतिः ॥ २॥

लोकपूज्यो लोकगुरुर्नीतिज्ञो नीतिकारकः ।

तारापतिश्चाङ्गिरसो वेदवैद्यपितामहः ॥ ३॥

भक्त्या बृहस्पतिं स्मृत्वा नामान्येतानि यः पठेत् ।

अरोगी बलवान् श्रीमान् पुत्रवान् स भवेन्नरः ॥ ४॥

जीवेद्वर्षशतं मर्त्यो पापं नश्यति नश्यति ।

यः पूजयेद्गुरुदिने पीतगन्धाक्षताम्बरैः ॥ ५॥

पुष्पदीपोपहारैश्च पूजयित्वा बृहस्पतिम् ।

ब्राह्मणान्भोजयित्वा च पीडाशान्तिर्भवेद्गुरोः ॥ ६॥

॥ इति श्रीस्कन्दपुराणे बृहस्पतिस्तोत्रं सम्पूर्णम् ॥

बृहस्पति स्तोत्र अत्यन्त प्रभावशाली है अतः इसका पाठ विधिपूर्वक करना चाहिए। आईये जानते हैं क्या है इस दिव्य स्तोत्र के पाठ करने की समुचित विधि। आप भी इस विधि के अनुसार पाठ कर इसका लाभ उठायें।

बृहस्पति स्तोत्र पाठ की विधि

  • सर्प्रथम गुरुवार के दिन प्रातः स्नान आदि कर पीले वस्त्र धारण करें।
  • अब एक लकड़ी की चौकी पर पीला वस्त्र बिछाकर उस पर श्री गुर बृहस्पति देव का छायाचित्र अथवा मूर्ति स्थापित करें।
  • तत्पश्चात केले का वृक्ष अथवा पत्ते से बृहस्पति देव के लिए क्षत्र निर्मित कीजिये।
  • अब गुरुदेव को धुप, दीप, नैवेद्य तथा पीले पुष्प व केले का भोग अर्पित करें।
  • तदोपरान्त पूर्ण भक्तिभाव से शुद्ध उच्चारण बृहस्पति स्तोत्र का पाठ करें।
  • पाठ संपन्न होने पर आरती करें।
  • आरती के पश्चात देव गुरु बृहस्पति से आशीर्वाद ग्रहण करें।

बृहस्पति स्तोत्र पाठ के लाभ

बृहस्पति स्तोत्र के पाठ से होने वाले लाभों को मात्र एक लेख में सन्निहित करना सम्भव नहीं किन्तु फिर भी यहाँ हम आपको इस स्तोत्र के प्रभाव से होने वाले लाभों के बारे में बता रहे हैं ताकि आप भी इस स्तोत्र का पाठ कर पुण्यलाभ अर्जित कर सकते हैं।

  • बृहस्पति स्तोत्र के पाठ से अविवाहित जातकों के जीवन में आने वाली बाधाएं दूर जाती हैं।
  • इसके प्रभाव से कुण्डली में चल रही गुरु की महदशा व अन्तर्दशा में लाभ होता है।
  • बृहस्पति देव की उपासना से सामाजिक मान – सम्मान व प्रतिष्ठा में वृद्धि होती।
  • बृहस्पति स्तोत्रम का पाठ करने वाले जातक के व्यक्तित्व में दिव्य ऊर्जा का संचार होता है।
  • यदि आप अपने जीवन में समस्त प्रकार के भौतिक सुखों को प्राप्त करना चाहते हैं तो इसका पाठ अवश्य करें।
  • श्री गुरु बृहस्पति देव की उपासना से श्री हरी विष्णु भगवान् की कृपा भी प्राप्त होती है।

You can download बृहस्पति स्तोत्र | Brihaspati Stotram PDF in Sanskrit by going through the download button given below.

PDF's Related to बृहस्पति स्तोत्र | Brihaspati Stotram

बृहस्पति स्तोत्र | Brihaspati Stotram PDF Free Download

REPORT THISIf the purchase / download link of बृहस्पति स्तोत्र | Brihaspati Stotram PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • Hayagreeva Stotram

    The Hayagriva Stotra is a Sanskrit hymn written by the Hindu philosopher Vedanta Desika. Comprising thirty-three verses, the hymn extols Hayagriva, an incarnation of the deity Vishnu. Adherents of the Vadakalai school of the Sri Vaishnava tradition hold this hymn to be the poetic idealisation of the esotericism of the...

  • Navagraha Stotram Sanskrit | Hindi

    Sri Navagraha Stotra consists of nine mantras for nine planets. It is widely believed in Hindu religion that praying to Navagrahs or chanting this Navagrah strotram will impact their lives in many positive ways such has health, wealth and prosperity. Sri Navagraha Stotra or Nava Graha Stotram is a prayer...

  • Shiv Mahimna Stotra (शिवमहिम्न स्तोत्र) Sanskrit

    शिवमहिम्न स्तोत्र (संस्कृत: श्रीशिवमहिम्नस्तोत्रम्) शिव महिम्न का अभिप्राय शिव की महिमा से है। यह एक अत्यंत ही मनोहर शिव स्तोत्र है। शिवभक्त श्री गंधर्वराज पुष्पदंत द्वारा अगाध प्रेमभाव से ओतप्रोत यह शिवस्तोत्र भगवान शिव को बहुत प्रिय है। शिवमहिम्न स्तोत्र कथा इस स्तोत्र के निर्माण पर एक अत्यंत ही रोचक...

  • अपराजितास्तोत्रम् | Aparajita Stotram Sanskrit

    अपराजिता स्तोत्रम सर्वश्रेष्ठ धार्मिक भजनों में से एक है जो देवी अपराजिता को समर्पित है। यह एक भजन है जो मुख्य रूप से संस्कृत भाषा में रचा गया है, लेकिन यह तमिल, तेलुगु और मलयालम सहित विभिन्न भाषाओं में भी उपलब्ध है। ऐसे बहुत से लोग हैं जो अपने जीवन...

  • कालभैरव सहस्रनाम स्तोत्रम् | Kalabhairava Sahasranama Stotram Sanskrit

    कालभैरव भगवान शिव के अवतार हैं। उन्हें शिव मंदिरों का रक्षक भी माना जाता है। काल भैरव सहस्रनाम स्तोत्र एक अत्यंत दिव्य व प्रभशाली स्तोत्र है। इस स्तोत्र के नियमित विधिवत पाठ से श्री काल भैरव जी अति प्रसन्न होते हैं तथा समस्त प्रकार के संकटों एवं शत्रुओं से आपकी...

  • गणपति सहस्रनाम स्तोत्र – Ganapati Sahasranama Stotram Sanskrit

    भगवान गणेश ने मुझे इस गणपति सहस्रनाम स्तोत्र का अध्ययन करने के लिए प्रेरित किया, जो कि गणेश पुराणम में होता है। जब मैंने इस काम की समीक्षा, संपादन और संकलन (वर्ड प्रोसेसिंग) समाप्त किया तो गणेश की कृपा स्पष्ट थी। गणेश सहस्रनाम का महत्व इस तथ्य के कारण है...

  • गुरु स्तोत्रम् | Guru Stotram Sanskrit

    हिन्दू वैदिक ज्योतिष में गुरु बृहस्पति देव को अत्यधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। गुरु ग्रह का कुंडली में अत्यधिक विशेष स्थान होता है। यदि आपकी कुंडली में भी गुरु ग्रह की अन्तर्दशा अथवा महादशा चल रही है तो आपको गुरु ग्रह से सम्बंधित उपाय अवश्य करने चाहिए। गुरु बृहस्पति को...

  • चैत्र नवरात्रि व्रत कथा 2022 | Chaitra Navratri Vrat Katha Hindi

    नवरात्रि का त्योहार चैत्र माह में पड़ने से उसको चैत्र नवरात्रि कहा जाता हैं।  नवरात्रि में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा की जाती है। इस साल चैत्र नवरात्रि की शुरुआत 02 अप्रैल 2022, शनिवार से हो रही है, जो कि 11 अप्रैल तक रहेगी। मान्यता है कि नवरात्रि...

  • दुर्गापूजाविधिमंत्रसहित

    दुर्गा पूजा, जिसे नवरात्रि भी कहा जाता है, हिन्दू धर्म के महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है, और यह भारत और अन्य साउथ एशियाई देशों में मनाया जाता है। इस पूजा के दौरान, देवी दुर्गा की पूजा और आराधना की जाती है, जिन्हें नवरात्रि के दौरान उनके नौ रूपों का...

  • बृहस्पति कवच | Brihaspati Kavacham Sanskrit

    बृहस्पति कवच PDF गुरु बृहस्पति देव को समर्पित एक सक्तिशाली स्तोत्र है इसका उपयोग वो लोग कर सकते हैं जिनकी कुण्डली में बृहस्पति की महादशा या अन्तर्दशा चल रही है। गुरुवार का दिन भगवान श्रीहरि विष्णु और देवों के गुरु बृहस्पति देव के लिए निर्धारित है। इस दिन विधि विधान...