Ramcharitmanas (श्री रामचरितमानस) Hindi

Ramcharitmanas (श्री रामचरितमानस) Hindi PDF download free from the direct link given below in the page.

72 Like this PDF
❴SHARE THIS PDF❵ FacebookX (Twitter)Whatsapp
REPORT THIS PDF ⚐

Ramcharitmanas (श्री रामचरितमानस) Hindi PDF

रामचरितमानस संसार के प्रसिद्ध ग्रन्थों में से एक है। सम्भवतः ही कोई ऐसा हिन्दु घर हो जहाँ रामचरितमानस न हो। बड़े-से-बड़े महलों से लेकर गरीब की झोपड़ी तक इसके प्रति आदर एवं श्रद्धा प्रकट की जाती है। कुछ व्यक्ति धार्मिक दृष्टि से तो कुछ ऐतिहासिक दृष्टि से तो अन्य राजनैतिक दृष्टि से इसका अध्ययन-मनन करते हैं।

इस ग्रंथ की रचना ऐसे समय में हुई थी जबकि हिन्दू जनता अपना समस्त शौर्य एवं पराक्रम खो चुकी थी। विदेशियों के चरण भारत में जम चुके थे। वह समय दो विरोधी संस्कृतियों, साधनाओं और सभ्यताओं का संधिकाल था। ऐसे ही काल में युग-प्रवर्तक, उच्च कोटि के भक्त कवि तुलसीदास (Tulsidas) का प्रादुर्भाव हुआ। लोकचेतना के शक्तिशाली तत्वों की उन्हें अद्भुत पहचान थी। राम के लोकोत्तर चरित्र के अजर-अमर गायक रस-सिद्ध किया, वहीं समाज, जाति और राष्ट्र के प्राणों में नव-जागरण की चेतना के स्वर फूँके।

रामचरितमानस चौपाई अर्थ सहित – Ramcharitmanas Hindi PDF

इस ग्रंथ में तुलसीदास जी ने मर्यादा पुरूषोत्तम राम को अवतारी रूप में अपना आराध्य मानकर उनका चरितगान किया है। उन्होंने अपने समय की प्रचलित सभी काव्य-शैलियों का सफलतापूर्वक प्रयोग किया है। ‘मानस’ का शिल्प बेजोड़ है।

मानस में सात कांड हैं –

  • बालकाण्ड (Balkand)
  • अयोध्याकाण्ड (Ayodhya Kand)
  • अरण्यकाण्ड (Aranya Kand)
  • किष्किन्थाकाण्ड (Kishkindha Kand)
  • सुन्दरकाण्ड (Sunderkand)
  • लंकाकाण्ड (Lanka Kand)
  • उत्तरकाण्ड (Uttar Kand)

तुलसीदास ने इस महाकाव्य में अवधी भाषा का प्रयोग कर सर्वसाधारण के लिए रास्ता सुगम कर दिया। दोहा-चौपाई शैली का प्रयोग किया गया है।

रामचरितमानस का कथा-शिल्प अत्यन्त सूझ-बूझ से युक्त है। इसमें मार्यादा पुरूषोत्तम भगवान् राम (Lord Rama) के पावन एवं लोकरक्षक चरित्र का विशद् वर्णन हुआ है। सच तो यह है कि मानव जीवन के विविध पहलुओं एवं भावनाओं का जितना सुन्दर वर्णन हमें इस ग्रन्थ में मिलता है, उतना किसी अन्य महाकाव्य में नहीं मिलता।

‘रामचरितमानस’ एक सफल महाकाव्य है। भगवान् राम ‘मानस’ के धीरोदात्त नायक हैं। वे परब्रह्म होते हुए भी इस ग्रंथ में एक गृहस्थ के रूप में आते हैं। वे सर्वत्र आदर्श की रक्षा करते हैं। इस काव्य के चरित्रों के माध्यम से तुलसीदास ने समाज को ऐसे मानवीय मूल्य दिए हैं जो देश और काल की सीमा से परे हैं। मानव हृदय की जिस सुदृढ़ भूमि पर रामचरितमानस का भव्य प्रासाद खड़ा है, वह वास्तव में सनातन एवं सार्वभौमिक है।

सम्पूर्ण रामचरितमानस – Ram Charit Manas PDF

इस चमत्कारपूर्ण ग्रंथ को गोसाईं जी ने संवत् १६३१ चैत्र शुक्ला ६ ( रामनवमी) मंगलवार को अपनी ४२ वर्ष की अवस्था में आरंभ किया था। गोसाई जी का सब से पहला ग्रंथ यही जान पड़ता है। इस ग्रंथ को उन्होंने अयोध्या में आरंभ किया था और अरण्यकांड तक बनाकर वे काशी जी चले गए और वहीं उन्होंने इसकी पूर्ति की । इसका नाम गोसाई जी ने ‘रामचरित मानस’ रक्खा था और इसमें सात सोपाने किए थे, पर लोक में इसका नाम रामायण और सोपानों का कांड प्रसिद्ध हुआ।

गोसाई जी ने सांसारिक जीवों के कल्याण के लिये सप्त प्रबंध रूपी सात सीढ़ियोंवाले मानस (सरेविर) की रचना की है। इस तड़ाग में श्रीरामचंद्र जी का विमल चरित्ररूपी अगाध जल है, जिसमें श्री सीताराम के सुयश की लहरें उठ रही हैं, जल में प्रेम और भक्ति की मिठास और शीतलता है। ऊपर से अनेक चौपाई रूपी सघन पुरइन फैली हुई है जिसमें छंद, सोरठा, दोहा रंग विरंगे कमल खिले हुए हैं। कमलों पर सुकृत रूपी भौंरे गुंजार कर रहे हैं और ज्ञान वैराग्य एवं विचार रूपी हंस तैर रहे हैं।

धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष रूपी जलचर-जंतु भी इस मानस में हैं। जो लोग श्रादरपूर्वक इसको पढ़ते हैं और सुनते हैं वे हो इस मानस के अधिकारी हैं, जो विपयी श्रौर दुष्ट, गले और कौवे हैं उनकी इसमें पैठ नहीं हो पाती । रामचरित मानस रामायण को अखण्ड रामायण भी कहा जाता है

आप नीचे दिए गए लिंक का उपयोग करके रामचरितमानस पीडीएफ़ (Ramcharitmanas in Hindi PDF) मे डाउनलोड कर सकते हैं।

2nd Page of Ramcharitmanas (श्री रामचरितमानस) PDF
Ramcharitmanas (श्री रामचरितमानस)

Download Ramcharitmanas (श्री रामचरितमानस) PDF

REPORT THISIf the purchase / download link of Ramcharitmanas (श्री रामचरितमानस) PDF is not working or you feel any other problem with it, please REPORT IT by selecting the appropriate action such as copyright material / promotion content / link is broken etc. If this is a copyright material we will not be providing its PDF or any source for downloading at any cost.

SIMILAR PDF FILES

  • रामचरितमानस अरण्यकाण्ड (Ramcharitmanas Aranya Kand) Hindi

    Aranya Kand is the Third book of the Valmiki Ramayana, which is one of the two great epics of India i.e. Ramayana & Mahabharat. But here we are providing you direct link Ramcharitmanas Aranya Kand chaupai. You can download easily the PDF of Ramcharitmanas Aranya Kand in high resolution here....

  • रामचरितमानस उत्तर काण्ड (Ramcharitmanas Uttar Kand) Hindi

    श्रीरामचरितमानस के उत्तरकाण्ड में भरत विरह, श्री रामजी का स्वागत, राज्याभिषेक, रामराज्य वर्णन, पुत्रोत्पति, श्री रामजी का प्रजा को उपदेश, श्री रामजी का भाइयों सहित अमराई में जाना, शिव-पार्वती संवाद, गरुड़जी के सात प्रश्न तथा काकभुशुण्डि के उत्तर और रामायणजी की आरती उल्लेखित है। Uttar Kand is the seventh book...

  • सुन्दरकाण्ड पाठ (Sunderkand Path) Hindi

    सुंदरकांड का पाठ करने से बजरंगबली खुश होते हैं तथा हमे मन चाहा वरदान देते हैं। सुन्दरकाण्ड पाठ हमारे मन को शांति देता है तथा हमारे जीवन से सरे कष्टों और दुखो का मिटा देता है। आप सुन्दरकाण्ड पाठ हिंदी में PDF को डाउनलोड करे इससे पहले आपको इस हिंदी...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *