श्रीमद्भगवद्‌गीता PDF | Bhagavad Gita in All Languages

Download from 8 PDF files under Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्‌गीता)

The Bhagavad Gita often referred to as the Gita, is a 700-verse Hindu scripture that is part of the epic Mahabharata (chapters 23–40 of Bhishma Parva), commonly dated to the second century BCE.

श्रीमद्भगवद्‌गीता

श्रीमद्भगवद्‌गीता हिन्दुओं के पवित्रतम ग्रन्थों में से एक है। महाभारत के अनुसार कुरुक्षेत्र युद्ध में भगवान श्री कृष्ण ने गीता का सन्देश अर्जुन को सुनाया था। यह महाभारत के भीष्मपर्व के अन्तर्गत दिया गया एक उपनिषद् है। भगवत गीता में एकेश्वरवाद, कर्म योग, ज्ञानयोग, भक्ति योग की बहुत सुन्दर ढंग से चर्चा हुई है।

भारत वर्ष के ऋषियों ने गहन विचार के पश्चात जिस ज्ञान को आत्मसात किया उसे उन्होंने वेदों का नाम दिया। इन्हीं वेदों का अंतिम भाग उपनिषद कहलाता है। मानव जीवन की विशेषता मानव को प्राप्त बौद्धिक शक्ति है और उपनिषदों में निहित ज्ञान मानव की बौद्धिकता की उच्चतम अवस्था तो है ही, अपितु बुद्धि की सीमाओं के परे मनुष्य क्या अनुभव कर सकता है उसकी एक झलक भी दिखा देता है।

The Gita is set in a narrative framework of a dialogue between Pandava prince Arjuna and his guide and charioteer Krishna. At the start of the Dharma Yudhha (righteous war) between Pandavas and Kauravas, Arjuna is filled with moral dilemma and despair about the violence and death the war will cause in the battle against his own kin. He wonders if he should renounce and seeks Krishna's counsel, whose answers and discourse constitute the Bhagavad Gita. Krishna counsels Arjuna to “fulfill his Kshatriya (warrior) duty to uphold the Dharma” through “selfless action.

Download PDF of Bhagavad Gita (श्रीमद्भगवद्‌गीता)